Close X
Tuesday, January 26th, 2021

कंगना रनौत को उद्धव सरकार से पंगा लेना महंगा पड़ा - दफ्तर पर चला BMC का हथोड़ा 

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत को उद्धव सरकार से पंगा लेना महंगा पड़ गया है. बीएमसी ने बांद्रा वेस्ट के पाली हिल रोड पर स्थित कंगना रनौत के दफ्तर के अवैध निर्माण को ध्वस्त करने की कार्रवाई शुरू कर दी है. बीएमसी की टीम जेसीबी और मजदूरों के साथ कंगना के दफ्तर पहुंच गई है और अवैध निर्माण को तोड़ा जा रहा है. इस बीच कंगना ने बीएमसी की टीम को बाबर की सेना कहा है.

बीएमसी अफसरों ने   कहा कि कंगना के दफ्तर के अंदर कई अवैध निर्माण किए गए हैं और इसलिए कार्रवाई की जा रही है. इससे पहले बीएमसी अफसरों ने कहा कि सारी औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं, जैसे ही का

गौरतलब है कि बीते दिनों ही बीएमसी टीम ने कंगना रनौत के दफ्तर का मुआयना किया था और पाया था कि ग्राउंड फ्लोर और फर्स्ट फ्लोर पर कई अवैध निर्माण किया गया है. यह दफ्तर कंगना रनौत के स्वामित्व वाली मणिकर्णिका प्रोडक्शंस का है. इसका मतलब है कि कंगना रनौत के मुंबई पहुंचने से पहले उनके दफ्तर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. कंगना ने इसी के साथ कुछ तस्वीरें साझा की, जिसमें बीएमसी के अफसर उनके दफ्तर के बाहर खड़े हैं.

कंगना के दफ्तर को एक और नोटिस
इस बीच कंगना रनौत के दफ्तर को एक और नोटिस भेजा गया है. इसमें कहा गया कि कंगना रनौत ने अपने वकील के माध्यम से जो आवेदन दायर किया गया था, उसे खारिज कर दिया गया. इसके अलावा अभी भी कंगना ने बीएमसी नोटिस का जवाब नहीं दिया है, इसलिए उनका निर्माण अवैध है और उसे ध्वस्त किया जा सकता है.
 
बीएमसी की कार्रवाई का अंदेशा कंगना रनौत को पहले से है. इस वजह से कंगना ने आज सुबह ही ट्वीट करके कहा कि मेरे आने से पहले ही महाराष्ट्र सरकार और उनके गुंडे मेरे ऑफिस के बाहर पहुंच गए हैं और उसे गिराने की तैयारी कर रहे हैं. मैं वादा करती हूं कि महाराष्ट्र के सम्मान के लिए खून देने के लिए तैयार हूं. ये कुछ नहीं है, चाहे तो सबकुछ छीन सकते हो लेकिन मेरी भावनाएं लगातर ऊंची होती जाएंगी.

बीएमसी ने चस्पा किया था नोटिस
कंगना रनौत के मुंबई से पहले ही मंगलवार को बीएमसी की ओर से उनके दफ्तर पर नोटिस चस्पा कर दिया गया था. बीएमसी का आरोप था कि कंगना के दफ्तर में कुछ निर्माण बिना किसी इजाजत के हुआ है, जिसमें कमरों का अलग इस्तेमाल, बॉथरूम का निर्माण, किचन का निर्माण जैसी बातें शामिल हैं.

हालांकि, कंगना रनौत की ओर से इसे बदले की कार्रवाई बताया गया और कहा गया कि उनका ऑफिस बीएमसी के द्वारा परमिशन लेने के बाद ही बना है. लेकिन शिवसेना और महाराष्ट्र सरकार अपना रुख नरम नहीं कर रही है. इतना ही नहीं महाराष्ट्र सरकार अब ड्रग्स मामले में भी कंगना रनौत से पूछताछ कर सकती है. पीएलसी।PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment