Thursday, January 23rd, 2020

ओम प्रकाश नदीम की ग़ज़ल

सर जोड़ के बैठो कोई तदबीर निकालो हर बात पे ये मत कहो शमशीर निकालो हालात पे रोने से फ़क़त कुछ नहीं होगा हालात बदल जाएँ वो तदबीर निकालो देखूँ ज़रा कैसा था मैं बेलौस था जब तक बचपन की मेरे कोई सी तस्वीर निकालो सय्याद को सरकार सज़ा बाद में देना पहले मेरे सीने में धँसा तीर निकालो दुनिया मुझे हैवान समझने लगी,अब तो गर्दन से मेरी धर्म की ज़ंजीर निकालो ---------ओम प्रकाश नदीम बेलौस --निश्छल ,सय्याद --बहेलिया ____________________________ Om Prakash Nadeem,poet Om Prakash Nadeem,ओम प्रकाश नदीम एकाउन्ट आफीसर, लखनऊ निवासी – फतहेपुर उ. प्र.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment