Monday, February 17th, 2020

एसआईटी के गठन पर यू.पी.सरकार का धन्यवाद

आई एन वी सी न्यूज़ नई दिल्ली, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कानपुर के 1984 सिखों के नरसंहार मामलों की जांच के लिए चार सदस्यीय एसआईटी गठित करने के लिए धन्यवाद करते हुए यह विश्वास व्यक्त किया है कि कानपुर में हुए सिख नरसंहार में सज्जन कुमार और जगदीश टाइटलर जैसे अन्य अनेक बड़े मगरमच्छों को दंड मिल सकेगा। कानपुर में हुए सिख नरसंहार में इनकी भूमिकाओं के लिए भी इन्हें दोषी ठहराया गया। एसआईटी उस समय के सभी मुकदमों की जांच पड़ताल करेगी और जो सजा मुक्त कर दिये गये हैं, उनके मामलों की फिर से विवेचना कर छः माह में एसआईटी अपनी रिपोर्ट सरकार को देगी। आज यहां जारी एक बयान में, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंघक कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष श्री हरमीत सिंह कालका और महासचिव मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि एसआईटी के गठन से विशेष रूप से पीड़ित परिवारों में सिख समुदाय के लिए न्याय की उम्मीद फिर से जागृत हुई है। उन्होंने खुलासा किया कि चार सदस्यीय टीम पूर्व डीजीपी अतुल नंदा की अध्यक्षता में होगी और इसमें रिटायर डिस्ट्रिक जज सुभाष चंद अग्रवाल, योगेश्वर कृष्ण श्रीवास्तव और वरिष्ठ सुपद सदस्य होंगे। उन्होंने आगे खुलासा किया कि इस मामले के बारे में अपने वकील के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट में मामला दायर किया था और अदालत ने राज्य को अपना जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया था। उन्होंने एसआईटी के गठन के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री आदित्य नाथ जोगी को धन्यवाद किया। दोनों नेताओं ने शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष सरदार सुखबीर सिंह बादल और अन्य सभी नेताओंं के सहयोग एवं समर्थन करने के लिए धन्यवाद दिया, जिसके फलस्वरूप एसआईटी का गठन हुआ।



Comments

CAPTCHA code

Users Comment