Sunday, December 8th, 2019

एक महान और विनम्र संत श्री चंद्रशेखरेंद्र सरस्वती स्वामिगल

 

चंद्रशेखरेंद्र सरस्वती स्वामिगल (1894–1994), जिन्हें कांची या महापरियावा के ऋषि के रूप में भी जाना जाता है, कांची कामकोटि पीठम के 68वें जगद्गुरु थे।


जीवन : महापरियावा का जन्म और पालन-पोषण दक्षिण अर्कोट जिले के विल्लुपुरम में हुआ था। उनका जन्म नाम स्वामीनाथन था। उनका परिवार स्मार्त ब्राह्मण संप्रदाय से संबंधित है। उनके पिता एक शिक्षक के रूप में काम कर चुके हैं और स्वामीनाथन वेदों के अच्छे जानकार थे।


स्वामीनाथन ने 13 फरवरी 1907 को संन्यासी नाम चंद्रशेखरेंद्र सरस्वती के रूप में कांची कामकोटि पीठम के 68वें आचार्य के रूप में पदभार संभाला। वे वेदों, पुराणों, हिन्दू ग्रंथों और साहित्य के अच्छे जानकार थे। उन्होंने कुंभकोणम और उसके बाद महेंद्रमंगलम में अध्ययन किया। कला के विभिन्न क्षेत्रों में उनकी रुचि थी। वह 1914 में कुंभकोणम लौट आए और एक सक्रिय संन्यासी के रूप में अपने पद पर कार्य करने लगे।

आध्यात्मिक योगदान : उन्होंने पूरे भारत की यात्रा की, और लोगों के बीच अपने आध्यात्मिक ज्ञान का प्रसार किया। दूसरे धर्म के लोग भी उसके भक्त बन गए। महापरियावा ने श्रीकामाक्षी अम्मन मंदिर में कामाक्षी अम्मन की पूजा में ही अपना संपूर्ण जीवन समर्पित कर दिया था।


उन्होंने अपने अनुयायियों और भक्तों को सलाह दी कि वे पवित्र नाम “राम” जपें और लिखें, ताकि लोगों के बुरे कर्मों को दूर किया जा सके। भारत के सभी हिस्सों से आए भक्त उनकी शिक्षाओं के तरीके से प्रभावित हुए और उनकी पूजा की। उनके प्रवचनों का उद्देश्य आम लोगों में आध्यात्मिकता का संचार करना था।

धार्मिक प्रवचन : उन्होंने देश भर में यात्रा की और धार्मिक प्रवचन दिए। उनके प्रवचनों ने पूरे देश को आध्यात्मिकता के मार्ग में प्रवेश करने के लिए प्रेरित किया। वह पूरे देश में सनातन धर्म के प्रसार में महत्वपूर्ण व्यक्ति थे।


किताबें:
1.हिन्दू धर्म (Hindu Dharma)
2.दि वेदाज (The Vedas)
3.गुरु की वाणी (Voice of the Guru)
4.सौंदर्यलहरी (Saundaryalahari)
5.ईश्वर की वाणी (Voice of God)

निष्कर्ष : हम उन्हें प्यार से महापरियावा के रूप में बुलाते हैं, हालांकि उन्होंने अपना भौतिक शरीर छोड़ दिया है, फिर भी वे हमारे दिल में रहते हैं। उनकी पुस्तकें और आध्यात्मिक प्रवचन उनके कई भक्तों को आध्यात्मिक मार्ग की ओर ले जाने और उचित तरीके से जीवन जीने में मदद करेंगे।


वह एक महान और विनम्र संत थे, जो पापों से मुक्त थे। उन्होंने भगवान शिव और देवी कामाक्षी अम्मन को अपना जीवन समर्पित करके एक पवित्र जीवन व्यतीत किया है। हमउनकी निष्ठा से प्रार्थना कर सकते हैं और उनके दिव्य आशीर्वाद को प्राप्त कर सकते हैं। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment