Close X
Sunday, October 25th, 2020

एक उद्यमी के रूप में मैं आशावादी हूं और इसीलिए मुझे अवसर दिख रहे हैं

नई दिल्ली । दिग्गज उद्योगपति गौतम अडाणी ने जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) में गिरावट के बारे में संकीर्ण सोचों को खारिज करते हुए कहा कि देश की बुनियाद मजबूत है। उन्होने कहा कि भारत 2050 तक दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। उन्होंने कहा व्यापार अवसरों के मामले में देश दुनिया के अन्य समकक्ष देशों के मुकाबले कहीं ज्यादा बेहतर स्थिति में है। जेपी मोर्गन इंडिया समिट में अडाणी समूह के चेयरमैन ने कहा कि आत्म निर्भर भारत कार्यक्रम पासा पलटने वाली पहल साबित होगी।
उन्होंने कहा मैं बिना झिझक के कहना चाहूंगा कि मेरे विचार से अगले तीन दशकों में भारत दुनिया के लिए व्यापार के लिहाज से सबसे बड़ा अवसर होगा। अडाणी ने कहा कि भारत की भू-रणनीतिक स्थिति और बड़ा बाजार उसे अपने समकक्ष देशों के मुकाबले बेहतर बनाता है। उन्होंने कहा कि महामारी के दूसरी तरफ भारत में अवसर तेजी से बढ़ेंगे। उन्होंने कहा जीडीपी गणित के प्रशंसकों के लिए कुछ आंकाड़ों पर गौर करते हैं। वर्ष 1990 में वैश्विक जीडीपी 38,000 अरब डॉलर था। आज 30 साल बाद यह आंकड़ा 90,000 अरब डॉलर है। अगले तीस साल में यानी 2050 में जीडीपी 1,70,000 अरब डॉलर हो जाने का अनुमान है। उस समय तक भारत दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होगा।’’ देश की आर्थिक वृद्धि दर में चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में 23.9 प्रतिशत की गिरावट आई है। इसकी एक प्रमुख वजह महामारी और लॉकडाउन है। पूरे वित्त वर्ष 2020-21 में चार दशक में पहली बार अर्थव्यवस्था में गिरावट का अनुमान है।देश के प्रमुख उद्योगपति अडाणी ने कहा कि वैश्विक संकट के कारण देश को जो थोड़े समय के लिये झटका लगा है, उसके कारण संभावनाओं और क्षमताओं को खारिज नहीं कर सकते क्योंकि उसकी बुनियाद अभी भी अक्षुण्ण बनी हुई है। उन्होंने कहा आज अर्थव्यवस्था का स्थति के आकलन के लिए जीडीपी का आकलन मुख्य आधार बन गया है। यह नहीं देखा जा रहा कि देश अगले एक दशक में कैसा हो सकता है। मेरे विचार से धैर्य और दीर्घकालीन रणनीति तथा सबसे महत्वपूर्ण सरकार के व्यापार एजेंडे के साथ तालमेल एक बेहतर मूल्य सृजित करता है।भारत के समक्ष चुनौतियों के बारे में अडाणी ने कहा कि देश को अगले दशक तक 1500 से 2000 अरब डॉलर पूंजी की जरूरत है। लेकिन राष्ट्रीय निवेश और बुनियादी ढांचा कोष जैसे संरचनात्मक सुधारों के बावजूद पूंजी ढांचा चुनौतियां तथा अधिकार प्राप्त और स्वतंत्र नियामकों की कमी देश निर्माण और निवेश अवसरों के रास्ते में बाधा बने हुए हैं। उन्होंने कहा एक उद्यमी के रूप में मैं आशावादी हूं और इसीलिए मुझे अवसर दिख रहे हैं। हो सकता है, आप जो देख रहे हैं, उससे यह अलग हो। मैं इस बात को मानता हूं कि अल्पकालीन सोच के आधार पर आप दीर्घकालीन भविष्य का निर्माण नहीं कर सकते। PLC.

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment