Saturday, February 29th, 2020

ऋण मामले में राजस्थान ऊपर

अजय सिंह किलकआई एन वी सी न्यूज़
जयपुर,
सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक ने सहकारी बैंकों को खेती के लिए दीर्घकालीन संरचनात्मक सुधार और रोजगारपरक कार्यों के लिए भी लक्ष्य आधारित ऋण वितरण के निर्देश दिए हैं।
श्री किलक मंगलवार को सचिवालय में प्रमुख शासन सचिव सहकारिता श्री दीपक उप्रेती, रजिस्ट्रार डॉ. आर. वेंकटेश्वरन, शीर्ष सहकारी संस्थाओं के प्रबंध संचालक व विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक कर रहे थे। उन्होंने कहा कि फसली सहकारी ऋण वितरण में आज राजस्थान देश में शीर्ष पर है। अब सहकारी बैंकों को फसली सहकारी ऋण वितरण के साथ ही योजनाबद्घ तरीके से मध्यकालीन व दीर्घकालीन कृषि निवेश कार्यों और अकृषि कार्यों के लिए भी ऋण वितरण को बढ़ावा देना होगा। उन्होंने कहा कि इससे एक और सहकारी बैंकों के ऋण व्यवसाय में विविधिकरण होगा वहीं ग्रामीण आर्थिक व्यवस्था को दीर्घकालीन आधार प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि लाभ में काम कर रही सहकारी संस्थाएं अपने सदस्यों को लाभांश का वितरण करें ताकि लोगों में सहकारिता के प्रति सकारात्मक संदेश जा सके।
सहकारिता मंत्री ने सहकारी ऋण वितरण व्यवस्था को पारदर्शी व सरल बनाने की आवश्यकता प्रतिपादित की और इसके लिए इस तरह का आवेदन बनाने को कहा जिससे ई-मित्र जैसी सेवाओं पर किसान ऋण आवेदन दे सके और समय पर उसके ऋण आवेदन पर निर्णय किया जा सके। उन्होंने सहकारी बैंकों से वित्तीय अनुशासन बनाए रखने, खर्चें कम करने, कम लागत की जमांए एकत्रित करने, लाभदायकता बढ़ाने और किसानों को बेहतर सहकारी सुविधाएं देने के निर्देश दिए।
प्रमुख सचिव सहकारिता श्री दीपक उप्रेती और रजिस्ट्रार डॉ. आर. वेंकटेश्वरन ने बताया कि विभाग द्वारा प्रदेश में गुणात्मक व आसानी से ऋण वितरण के लिए लोनिंग गाइड लाईन (ऋण दिशा-निर्देश) को अंतिम रुप दिया जा रहा है। इसमें आसानी से ऋण वितरण के साथ ही अधिकारियों की जवाबदेही व उत्तरदायित्व तय किया जाएगा। उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा प्राथमिक स्तर की सहकारी समितियों को मजबूत बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं जिससे राज्य का सहकारिता आंदोलन अधिक सदस्योन्मुखी और बहुआयामी हो सके।
प्रमुख सचिव श्री उप्रेती व रजिस्ट्रार डॉ. वेंकटेश्वरन ने बताया कि सहकारी संस्थाओं को समय पर ऑडिट कराकर आमसभाएं आयोजित कर लाभांश वितरण के निर्देश दिए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि ग्राम सेवा सहकारी समितियों से शीर्ष स्तर की सहकारी संस्थाओं को स्पष्ट संदेश दे दिया गया है कि वित्तीय अनियमितता और निर्धारित लक्ष्यों की पूर्ति में किसी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं होगी।
बैठक में विशिष्ठ सहायक सहकारिता मंत्री डॉ. एस.पी. सिंह प्रबंध संचालकों में अपेक्स बैंक के के.के. गुप्ता, भूमि विकास बैंक के श्री विजय कुमार, उपभोक्ता संघ के श्री इन्दर सिंह, अतिरिक्त रजिस्ट्रार बैंकिंग श्री विद्याधर गोदारा, संयुक्त रजिस्ट्रार बैंकिंग श्री के.एन. शर्मा, श्री संजय पाठक, महाप्रबंधक भूमि विकास बैंक श्री शिवजी लाल चौपड़ा, तकनीकी सहायक रजिस्ट्रार श्री पंकज अग्रवाल उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment