Monday, February 17th, 2020

**उत्तर प्रदेश में मचा चुनाव पूर्व का घमासान

**निर्मल रानी उत्तर प्रदेश राज्य में होने वाले विधानसभा के आम चुनाव वैसे तो हमेशा ही पूरे देश के लिए उत्सुकता का विषय बने रहते हैं। परंतु इस बार ख़ासतौर पर इन चुनावों पर पूरे देश की नज़र टिकी हुई है। इसके कई कारण हैं। एक तो यह कि प्रदेश की राजनीति में यह पहला मौका था जबकि पिछले चुनावों में बहुजन समाज party अपने पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में आई तथा इन दिनों अकेले दम पर अपना कार्यकाल पूरा कर रही है। लिहाज़ा देश की नज़र इस बात पर है कि क्वबहुजन हिताय बहुजन सुखायं की बात करने वाली बसपा तथा उसकी नेता एवं प्रदेश की मु यमंत्री मायावती अपने उपरोक्त नारों पर अमल कर पाने में कहां तक खरी उतर पाई हैं। और यह भी कि बहुजन हिताय की बात करते-करते सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय की बातंे करने का उन्हें लाभ हुआ है या नुकसान यह भी आने वाला चुनाव ही तय करेगा। दूसरी ओर विपक्षी दलों में मची इस बात की प्रतिस्पधüा पर भी सभी की नज़रें टिकी हैं कि आçखर कौन सा दल स्वयं को मु य विपक्षी दल के रूप में राज्य में स्थापित कर पाता है। çफलहाल चुनाव पूर्व गठबंधन के नाम पर सिवाय कांग्रेस व राष्ट्रीय लोकदल में हुए समझौते के अन्य किसी राजनैतिक दल के साथ किसी भी party के चुनाव पूर्व गठबंधन किए जाने का कोई समाचार नहीं है। परंतु चुनाव का समय नज़दीक आते-आते इस प्रकार के होने वाले किसी गठबंधन से इंकार भी नहीं किया जा सकता। बहरहाल, चुनाव पूर्व जैसा कि होता चला आ रहा है सत्तारुढ़ दल अर्थात् बहुजन समाज party अपने तरकश के सभी तीर चलाने में मसरूफ है। पिछले दिनों बड़े ही आpर्यजनक तरीके से राज्य विधानसभा का एक दिन का सत्र बुलाकर चंद minutes में ही लेखानुदान पारित करा दिया गया तथा प्रदेश को चार भागों में विभाजित करने जैसा अति महत्वपूर्ण एवं अतिसंवेदनशील प्रस्ताव भी आनन-फानन में पारित कर राज्य के बंटवारे संबंधी गेंद केंद्र सरकार के पाले में डाल दी गई। इसके अतिरिक्त बहुजन समाज से पटरी बदलकर सर्वजन समाज की ओर रुख करती हुई बसपा ब्राह्मण मतों को आकर्षित करने के लिए एक बार फिर तरह-तरह के हथकंडे अपना रही है। इन सबके अतिरिक्त टिकट बंटवारे को लेकर भी party में भीषण घमासान की ख़बरें हैं। हालांकि अभी चुनाव आयोग द्वारा राज्य विधानसभा चुनाव के संबंध में न तो कोई तिथि घोषित की गई है न ही इस संबंध में कोई अधिसूचना जारी हुई है। परंतु अभी से लगभग सभी राजनैतिक दलों द्वारा अपनी-अपनी party के उ मीदवारों की घोषणा किए जाने का काम शुरु कर दिया गया है। ख़बरों के अनुसार बसपा में लगभग तीन दर्जन विधायकों को party इस बार चुनाव मैदान में पुनज् उतारने नहीं जा रही है। ऐसे में ज़ाहिर है इनमें से अधिकांश विधायकों ने अभी से बागी तेवर दिखाने शुरु कर दिए हैं और ऐसे विधायक अब दूसरी पाटिüयों की ओर देख रहे हैं। ज़ाहिर है टिकट वितरण के इस वातावरण में एक बार फिर सौदेबाज़ी की भी पूरी ख़बरें आ रही हैं। समाचारों के अनुसार बसपा के जिन विधायकों को इस बार party के टिकट से वंचित रखा जा रहा है उससे दहशत खाए हुए अन्य party विधायक सभी क्वशतोzं को पूरा कर टिकट लेने की जुगत में लग गए हैं। बहराईच çज़ले के एक बसपा विधायक के करीबी सूत्रों ने बताया कि उसकी ओर से बहुत बड़ी धनराशि party हाईकमान तक पहुंचा दी गई है ताकि उसका टिकट सुनिश्चित हो सके। और यदि किसी कारणवश उसे टिकट नहीं भी दिया जाए तो उसके स्थान पर उसके बेटे को party का टिकट दिया जाए। ज़रा गौर कीजिए कि करोड़ों की भारी-भरकम राशि केवल party को देकर टिकट लेने वाला व्यक्ति यदि चुनाव जीत भी गया तो वह पांच वर्ष के अपने कार्यकाल में किस प्रकार अपनी इस रकम की भरपाई कर सकेगा? इसी प्रकार की ख़बरें राज्य के अन्य कई संभावित उ मीदवारों के निकट सूत्रों से आनी शुरू हो गई हैं। उधर कांग्रेस party हालांकि अपने युवराज राहुल गांधी को तुरुप के पžो के रूप में मु य चुनाव प्रचारक की हैसियत से मैदान में उतारकार party के बेहतर प्रदर्शन की आस लगाए हुए है। परंतु हकीकत में कांग्रेस को राज्य में भारी गुटबाज़ी का भी सामना करना पड़ रहा है। मोटे तौर पर राज्य कांग्रेस इस समय तीन प्रमुख गुटों में विभाजित है। एक तो पुराने कांग्रेसियों का गुट जो स्वयं को ही वास्तविक कांग्रेसी समझते हैं तथा इस बात के इच्छुक रहते हैं कि कांग्रेस party द्वारा राज्य से संबंधित निर्णय उनकी मंशा के मुताबिक तथा उनकी सलाह से ही लिए जाएं। दूसरा गुट प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रीटा बहुगुणा जोशी का है। रीटा बहुगुणा इससे पूर्व अखिल भारतीय महिला कांग्रेस कमेटी की अध्यक्षा थीं तथा यहां से उन्हें सीधे प्रदेश अध्यक्ष बना कर लखनऊ भेजा गया। party में कुछ वर्ष पूर्व ही नई एंट्री होने तथा प्रदेश अध्यक्ष जैसे महत्वपूर्ण पद पर उनके आसीन होने के कारण पुराने कांग्रेसी उन्हें पूरी तरह से हज़म नहीं कर पा रहे हैं। और तीसरा नया गुट केद्रीय मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा का है। पुराने समाजवादी नेता रहे बेनी प्रसाद वर्मा निश्चित रूप से मुलायम सिंह यादव से भी वरिष्ठ समाजवादी नेता हैं। वे समाजवादी party में अपेक्षित स मान न मिल पाने के कारण समाजवादी party छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए। उनकी वरिष्ठता का ़याल करते हुए कांग्रेस ने उन्हें केंद्रीय मंत्री पद भी नवाज़ा है। बेनीप्रसाद वर्मा का मानना है कि पिछले संसदीय चुनावों में प्रदेश में कांग्रेस को मिली सफलता में उनकी भी बड़ी अहम भूमिका है। कांग्रेस party की उपरोक्त गुटबाज़ी टिकट बंटवारे में भी खुलकर सामने आ रही है। प्रत्येक धड़ा अपने अधिक से अधिक समर्थकों को टिकट दिलवाए जाने की कोशिश में लगा है। इनमें कई गुटों के नेता दूसरे दलों के नाराज़ प्रत्याशियों पर भी डोरे डालने की कोशिश में लगे हैं। यहां भी पैसों के लेनदेन की ख़बरें सुनने को मिल रही हैं। उदाहरण के तौर पर गत् दिनों राहुल गांधी ने बहराईच çज़ले का दौरा किया तथा वहां एक जनसभा को संबोधित किया। यह क्षेत्र बेनी प्रसाद वर्मा का प्रभाव क्षेत्र माना जाता है। वैसे भी बहराईच आमतौर पर समाजवादियों का गढ़ रहा है। निज़ामुद्दीन खां, सैय्यद ज़रगाम हैदर जैसे कई समाजवादी इसी çज़ले से संबंधित थे। लिहाज़ा बेनी प्रसाद वर्मा अपनी दूरदर्शी राजनीति अर्थात् प्रदेश के मु यमंत्री बनने की जुगत बिठाते हुए इस क्षेत्र में अपने शुभचिंतकों को टिकट दिलवाए जाने के पक्षधर हैं। परंतु क्षेत्र के पारंपरिक कांग्रेसियों को वर्मा की यह चाल रास नहीं आ रही है। इसी लिए राहुल गांधी की उपस्थिति में कांग्रेसजनों ने बहराईच की जनसभा के दौरान काफी हंगामा किया तथा पहले से तैयार रखा गया बेनी प्रसाद का पुतला उसी जनसभा में फंूक डाला। यह कांग्रेसी प्रदर्शनकारी बहराइच, क़ैसरगंज तथा नानपारा विधानसभा क्षेत्रों में बेनी प्रसाद वर्मा समर्थक उ मीदवारों को party का टिकट दिए जाने की कोशिशों का विरोध कर रहे थे। जबकि कुछ सूत्रों के हवाले से यह भी ख़बर आ रही है कि party को दिए जाने के नाम पर party के कुछ वरिष्ठ नेताओं द्वारा कुछ लोगों से इस आeासन पर पैसे भी ले लिए गए हैं ताकि उन्हें party का टिकट दिलवाना सुनिश्चित किया जा सके। party टिकट को लेकर अन्य राजनैतिक दलों की ओर से भी इसी प्रकार के समाचार प्राप्त होने शुरु हो गए हैं। बड़े आpर्य की बात है कि अन्ना हज़ारे तथा बाबा रामदेव जैसे स्वयंभू भ्रष्टाचार विरोधी क्वपुरोधां उत्तर प्रदेश से ही अपने भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम का सार्वजनिक शंखनाद करने जा रहे हैं तो दूसरी ओर इन सबसे बेपरवाह राजनैतिक दल व इनके कुछ नेता टिकट वितरण जैसे क्वसुनहरे अवसरं को धन उगाही के सर्वाेत्तम माध्यम के रूप में अपनाए जाने से बाज़ नहीं आ रहे हैं। इन घटनाओं को उत्तर प्रदेश में चुनाव पूर्व मचे घमासान का मात्र श्रीगणेश ही समझा जाना चाहिए। **निर्मल रानी कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर निर्मल रानी गत 15 वर्षों से देश के विभिन्न समाचारपत्रों, पत्रिकाओं व न्यूज़ वेबसाइट्स में सक्रिय रूप से स्तंभकार के रूप में लेखन कर रही हैं.

Nirmal Rani (Writer) 1622/11 Mahavir Nagar Ambala City  134002 Haryana phone-09729229728

*Disclaimer: The views expressed by the author in this feature are entirely her own and do not necessarily reflect the views of INVC

Comments

CAPTCHA code

Users Comment