रतनम चन्द्रा,,
आई. एन वी सी ,,
दिल्ली,,

प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने आज नई दिल्‍ली में मुख्‍य सचिवों के दि्वतीय वार्षिक सम्‍मेलन को सम्‍बोधित करते हुए अवसर पर कहा कि पिछला वर्ष हमारे लिए कठिनाइयों भरा रहा था। उन्‍होंने कृषि वस्‍तुओं और पेट्रोलियम पदार्थों की मांग-आपूर्ति में असंतुलन के कारण कीमतों में वृद्धि पर चिन्‍ता व्‍यक्‍त की तथा आंतरिक सुरक्षा, कश्‍मीर घाटी और माओवादी हिंसा से सार्वजनिक जीवन में तनाव का जिक्र किया। देश की अर्थव्‍यवस्‍था का उल्‍लेख करते हुए उन्‍होंने मुद्रास्‍फीति के प्रभाव और बढ़ती हुई कीमतों को रोकने के लिए सभी वस्‍तुओं का उत्‍पादन बढ़ाने पर तत्‍काल कार्रवाई करने पर बल दिया। उन्‍होंने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली को दुरुस्‍त बनाने की दिशा में केन्‍द्र सरकार की ओर से पर्याप्‍त सहायता दिए जाने की आवश्‍यकता है।

उन्‍होंने उग्रवाद, सीमापर उग्रवाद के लिए केन्‍द्र और राज्‍यों को मिलकर काम करने पर बल दिया। उन्‍होंने कहा कि पुलिस बलों को सक्षम बनाने और कानून तथा व्‍यवस्‍था की जिम्‍मेदारी राज्‍य सरकारों की है, फिर भी केन्‍द्र सरकार उनको धन उपलब्‍ध कराने में अपना योगदान दे रही है। भ्रष्‍टाचार का उल्‍लेख करते हुए उन्‍होंने कहा कि इससे देश की प्रतिष्ठा पर आंच आती है और यह देश की तरक्‍की को रोकता है। भ्रष्‍टाचार की समस्‍या का सामना करने के लिए सुझाव देने हेतु कार्य दल का गठन करने का उल्‍लेख किया।

प्रधानमंत्री ने सरकार के सामाजिक कार्यक्रमों की सफलता के बारे में कहा कि इन कार्यक्रमों से गरीब जनता की क्रय शक्‍ति में वृद्धि हुई है। इन योजनाओं के कार्यान्‍वयन पर सवालिया निशान लगाए जा रहे हैं, जिसके लिए पंचायतों को अधिक अधिकार देकर विभिन्‍न सेवाओं में पूर्ण पारदर्शिता के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करने पर बल दिया।

अर्थव्‍यवस्‍था के संबंध में उन्‍होंने कहा कि अर्थव्‍यवस्‍था की कमी से हमें अपने उद्देश्‍यों को प्राप्‍त करने में रुकावट आ रही है। हमें बढ़िया सड़कें, बंदरगाह, बिजली, सिंचाई सुविधाओं की आवश्‍यकता है। इसके लिए उन्‍होंने मुख्‍य सचिवों से कहा कहा कि वे इसके लिए साधन जुटाने का पता लगायें। उन्‍होंने कहा कि अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों तथा समाज के कमजोर वर्गों, महिलाओं आदि पर अभी भी अत्‍याचार हो रहा है। इसके लिए उन्‍होंने मुख्‍य सचिवों को प्रशासन की ओर से कार्रवाई करने और दोषियों को सज़ा देने की अपेक्षा की ।

The Prime Minister, Dr. Manmohan Singh addressing at the Annual Conference of Chief Secretaries, in New Delhi on February 04, 2011. 	The Minister of State for Parliamentary Affairs, Prime Minister’s Office and Personnel, Public Grievances and Pensions, Shri V. Narayanasamy and the Principal Secretary to Prime Minister, Shri T.K.A. Nair are also seen.
The Prime Minister, Dr. Manmohan Singh addressing at the Annual Conference of Chief Secretaries, in New Delhi on February 04, 2011. The Minister of State for Parliamentary Affairs, Prime Minister’s Office and Personnel, Public Grievances and Pensions, Shri V. Narayanasamy and the Principal Secretary to Prime Minister, Shri T.K.A. Nair are also seen.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here