Tuesday, October 15th, 2019
Close X

ई-गवर्नेंस के क्षेत्र में हुआ बहुत अच्छा काम

आई एन वी सी न्यूज़
जयपुर,
मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने कहा कि प्रदेश सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) के माध्यम से नागरिकों के जीवन में बेहतरी लाने के क्षेत्र में देश में अग्रणी है। राज्य को गत सालों में शासन में सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए 46 राष्ट्रीय पुरस्कार मिले हैं। श्री गुप्ता शनिवार को जयपुर में जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट में आयोजित ‘दसवें थोट लीडरशिप लेक्चर सीरिज’ में छात्र-छात्राओं को संबोधित कर संवाद कर रहे थे।

मुख्य सचिव श्री डीबी गुप्ता ने ‘डाइवर्सिटी एंड अपॉरचुनिटी इन राजस्थान रोल ऑफ ई-गवर्नेंस’ विषय पर बोलते हुए कहा कि राजस्थान में ई-गवर्नेंस के क्षेत्र में बहुत अच्छा काम हुआ है। शासन में ई-गवर्नेंस के उपयोग में राज्य देश में सबसे आगे है जिसकी बदौलत गत वर्षों में 46 पुरस्कार हासिल हुए हैं। उन्होंने कहा कि जन आधार योजना के माध्यम से लाभार्थी को घर बैठे ही पीडीएस, पेंशन जैसी योजनाओं का त्वरित लाभ पहुंचाया जा रहा है। प्रधानमंत्री सम्मान निधि योजना के आरंभ के समय सिर्फ एक महीने में ही पात्र 39 लाख किसानों के खाते में राशि पहुंचा दी गई। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने ई-गवर्नेंस के क्षेत्र में ई-मित्र, राजनेट, राज सम्पर्क पोर्टल एवं अभय कमांड सेंटर जैसे काफी कदम उठाए हैं। प्रदेश में 66 हजार 500 ई-मित्र केन्द्रों के माध्यम से नागरिक सुविधाएं मुहैया कराई जा रही है।
 
मुख्य सचिव ने कहा कि शासन में सूचना प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से पारदर्शिता बढ़ाने, भ्रष्टाचार को रोकने और सेवाएं मुहैया कराने की गुणवत्ता बेहतर करने में मदद मिली है। डाइरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर के माध्यम से लाभार्थियाें के खाते में सीधा लाभ पहुंचाया जा रहा है जिसमें लीकेज की गुंजाइश ही खत्म हो जाती है। साथ ही सरकारी अधिकारियों के प्रदर्शन में सुधार हो रहा है और धन की छीजत को रोकने में भी मदद मिल रही है। उन्होंने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग में साइबर क्राइम एवं व्यक्तिगत जानकारी लीक होने जैसी चुनौतियां भी हैं।

मुख्य सचिव श्री डीबी गुप्ता ने प्रदेश की भौगोलिक स्थिति, विकास के अवसर एवं चुनौतियों पर प्रकाश डालते हुए सरकार की ओर से किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि राज्य ने शिक्षा एवं चिकित्सा सेवाएं सुदृढ़ करने में कामयाबी हासिल की है। इनमें राजस्थान देश के अग्रणी पांच राज्यों में शामिल हो गया है। पानी की कमी की चुनौती से निपटने के लिए माइक्रो सिंचाई पद्धतियों को अपनाकर और जल संरक्षण कार्य कर पानी को बचाया जा रहा है। हर गांव को पक्की सड़कों से जोड़कर अच्छी आधारभूत संरचना विकसित की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पर्यटन, खाद्य प्रसंस्करण, पशुपालन, खनन जैसे क्षेत्रों में प्रबल संभावनाएं है।

मुख्य सचिव श्री डीबी गुप्ता ने संस्थान के छात्र-छात्राओं से संवाद किया और उनके सवालों के जवाब देकर जिज्ञासाएं शांत की। संस्थान के चेयरमैन श्री शरद जयपुरिया एवं निदेशक डॉ. प्रभात पंकज ने मुख्य सचिव श्री गुप्ता का स्वागत किया।  



 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment