Close X
Saturday, January 16th, 2021

इस बार बिहार नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार को जवाब देने जा रहा है

नवादा रैली में राहुल गांधी ने चीन की ओर से किए गए अतिक्रमण और प्रवासी मजदूरों का मसला उठाया तो तेजस्वी यादव ने लोगों को रोजगार देने का वादा किया. राहुल की यह पहली चुनावी रैली थी.

नवादा में राहुल और तेजस्वी की साझा रैलीराहुल बोले- मोदी ने सेना का अपमान कियातेजस्वी ने लोगों से किया रोजगार देने का वादा
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी नेता) तेजस्वी यादव ने आज बिहार के नवादा में चुनावी रैली को संबोधित किया. राहुल गांधी ने चीन की ओर से किए गए अतिक्रमण और प्रवासी मजदूरों का मसला उठाया तो तेजस्वी यादव ने लोगों को रोजगार देने का वादा किया. राहुल की यह पहली चुनावी रैली थी.

राहुल गांधी ने कहा कि जब बिहार के युवा सैनिक शहीद हुए, उस दिन हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री ने क्या कहा और क्या किया, सवाल ये है. लद्दाख मैं गया हूं, लद्दाख में हिंदुस्तान की सीमा पर बिहार के युवा अपना खून-पसीना देकर जमीन की रक्षा करते हैं. चीन ने हमारे 20 जवानों को शहीद किया और हमारी जमीन पर कब्जा किया, लेकिन प्रधानमंत्री ने झूठ बोलकर हिंदुस्तान की सेना का अपमान किया.

प्रवासी मजदूरों के पलायन का मसला उठाते हुए राहुल गांधी ने कहा कि पलायन कर रहे प्रवासी मजदूरों की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मदद नहीं की. यही सच्चाई है. मुझे पूरा भरोसा है कि इस बार बिहार सच्चाई को पहचानने जा रहे हैं. इस बार बिहार नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार को जवाब देने जा रहा है.

रैली को संबोधित करते हुए आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि 15 साल नीतीश कुमार मुख्यमंत्री हैं, उनकी डबल इंजन की सरकार है, लेकिन थाने और ब्लॉक में बिना भ्रष्टाचार के कोई काम नहीं होता है. जो रोजगार था, उसको पीएम मोदी और सीएम नीतीश कुमार ने छीन लिया. कोरोना काल में सीएम नीतीश कुमार अपने आवास में थे, लेकिन बाहर नहीं निकले.


केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार का 18 जिला बाढ़ में डूबा रहा, लेकिन सेंट्रल की टीम भी नहीं आई. कोई नहीं देखने आया. नीतीश जी 144 दिन तक घर के अंदर रहे, लेकिन अब वोट चाहिए तो बाहर निकल रहे हैं. नीतीश कुमार पलायन को रोक नहीं पा रहे हैं. बिहार का अरबों रुपया बाहर जा रहा है.

तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार कहते हैं कि रोजगार देने के लिए पैसा कहां से आएगा. बिहार का बजट 2 लाख 13 हजार करोड़ है, नीतीश जी केवल 60 फीसदी खर्च कर पाते हैं. बाकी 80 हजार करोड़ तो है ही. इस पैसे से लोगों को रोजगार दें. हमारी सरकार बनी तो हम तुरंत 10 लाख सरकारी नौकरी देंगे.

बिहार में अब चुनावी दंगल धीरे-धीरे और भी रोमांचक होता जा रहा है। बिहार चुनाव में  पीएम मोदी ने सासाराम तो राहुल गांधी ने नवादा में अपनी पहली रैली संबोधित की। पीएम नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर से आर्टिकल-370 हटने का इंतजार देश बरसों से कर रहा था या नहीं।वहीं नवादा में तेजस्वी के साथ राहुल गांधी ने पीएम माेदी पर जमकर निशाना साधा। राहुल ने लोगों से पूछा आपको मोदी जी का भाषण कैसा लगा ?  इससे पहले पीएम मोदी ने कहा कि धारा 370 का फैसला हमने लिया, एनडीए की सरकार ने लिया लेकिन आज ये लोग इस फैसले को पलटने की बात कर रहे हैं। ये कह रहे हैं कि सत्ता में आए तो आर्टिकल-370 फिर लागू कर देंगे। इन लोगों को आपकी जरूरतों से कभी सरोकार नहीं रहा। इनका ध्यान रहा है अपने स्वार्थों पर, अपनी तिजौरी पर। यही कारण है कि भोजपुर सहित पूरे बिहार में लंबे समय तक बिजली, सड़क, पानी जैसी मूल सुविधाओं का विकास नहीं हो पाया। अब पीएम मोदी गया में जनसभा को संबोधित कर रहे हैं। पीएम मोदी की सासाराम के बाद गया में दूसरी रैली है, इसके बाद भागलपुर में रैली होगी। वहीं कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी हसुआ और कहलगांव में चुनावी सभा को संबोधित करेंगे। तो चलिए जानते हैं गया रैली की खास बातें...

राहुल गांधी बोले- पीएम ने वीरों का अपमान किया
राहुल गांधी बोले- चीन की सेना ने हमारे 20 सैनिकों को शहीद किया और हमारी 1200 किलोमीटर ज़मीन ली है। जब चीन हमारी ज़मीन के अंदर आया तो हमारे PM ने वीरों का अपमान करते हुए ये क्यों बोला कि हिन्दुस्तान के अंदर कोई नहीं आया। आज कहते हैं कि मैं सिर झुकाता हूं।

नवादा में राहुल गांधी बोले- पीएम मोदी ने सेना का अपमान किया
नवादा में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा जब बिहार के युवा सैनिक शहीद हुए, उस दिन प्रधानमंत्री ने क्या किया। लद्दाख में हिंदुस्तान की सीमा पर बिहार के युवा अपना खून-पसीना देकर जमीन की रक्षा करते हैं। चीन ने हमारे 20 जवानों को शहीद किया और हमारी जमीन पर कब्जा किया, लेकिन प्रधानमंत्री ने झूठ बोलकर हिंदुस्तान की सेना का अपमान किया। प्रवासी मजदूरों के पलायन का मसला उठाते हुए राहुल गांधी ने कहा कि पलायन कर रहे प्रवासी मजदूरों की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मदद नहीं की। यही सच्चाई है। मुझे पूरा भरोसा है कि इस बार बिहार सच्चाई को पहचानने जा रहे हैं. इस बार बिहार नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार को जवाब देने जा रहा है।

आज बिहार में लालटेन की जरूरत नहीं- मोदी
पीएम मोदी ने कहा कि ये वो दौर था जब लोग कोई गाड़ी नहीं खरीदते थे, ताकि एक राजनीतिक पार्टी के कार्यकर्ताओं को उनकी कमाई का पता न चल जाए। ये वो दौर था जब एक शहर से दूसरे शहर में जाते वक्त ये पक्का नहीं रहता था कि उसी शहर पहुंचेंगे या बीच में किडनैप हो जाएंगे। ये वो दौर था जब बिजली संपन्न परिवारों के घर में होती थी, गरीब का घर दीए और ढिबरी के भरोसे रहता था। आज के बिहार में लालटेन की जरूरत खत्म हो गई है। आज बिहार के हर गरीब के घर में बिजली का कनेक्शन है, उजाला है। आज बिहार के इंजीनियरिंग कॉलेज, मेडिकल कॉलेज, IIT, IIM जैसे संस्थान खोले जा रहे हैं।  यहां बोधगया में भी तो IIM खुला है जिस पर सैकड़ों करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। वरना बिहार ने वो समय भी देखा है, जब यहां के बच्चे छोटे-छोटे स्कूलों के लिए तरस जाते थे।

 

विपक्ष पर बरसे मोदी
पीएम मोदी ने गया में कहा कि बिहार के चुनाव इस बार दो कारणों से अहम हैं, एक तो कोरोना महामारी के बीच ये पहला बड़ा चुनाव है, जहां इतनी बड़ी संख्या में मतदान होने वाला है। इसलिए नजर इस बात पर है कि खुद को सुरक्षित रखते हुए बिहार लोकतंत्र को कैसे मजबूत करता है। दूसरा ये चुनाव इस दशक में बिहार का पहला चुनाव है, NDA की जीत के साथ ये चुनाव बिहार की भूमिका को और मजबूत करेगा। 90 के दशक में बिहार के लोगों का अहित किया गया, बिहार को अराजकता और अव्यवस्था के किस दलदल में धकेल दिया ये आप में से अधिकांश ने अनुभव किया है। आज भी बिहार की अनेक समस्याओं की जड़ में 90 के दशक की अव्यवस्था और कुशासन है।

 

गया में गरजे मोदी- बिहार में अब लालटेन की जरूरत नहीं
सासाराम के बाद अब जनसभा को संबोधित करने पीएम मोदी गया पहुंचे हैं। गया में रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि कोरोना महामारी के बीच ये दुनिया का पहला बड़ा चुनाव है, जहां इतनी बड़ी संख्या में मतदान होने वाला है। नज़र इस बात पर है कि खुद को सुरक्षित रखते हुए, बिहार लोकतंत्र को मजबूत कैसे करता है। आज आप एक नए बिहार को बनते देख रहे हैं। आज के बिहार में लालटेन की जरूरत खत्म हो गई है। आज बिहार के हर गरीब के घर में बिजली का कनेक्शन है, उजाला है।

 

आरक्षण और नौकरी पर कही ये बात
- बिहार के लोगों को अधिक से अधिक अवसर देने के लिए लिए दलितों पिछडो  को मिलने वाला आरक्षण अगले 10 साल के लिए बढ़ा दिया गया। इसके अलावा सवर्ण आरक्षण दिया गया।

- देश में कॉमन इंट्रेस टेस्ट से देश में नौकरी के कई दरवाजे खुलेंगे। े

- बिहार भाजपा को बधाई दी कि चुनावी मेनिफेस्टो में इसे शामिल किया।

-स्वरोजगार के लिए मिलने वाली मुद्रालोन की सुविधा बढ़ाई गई

- छोटे किसानों को  किसान क्रेडिट की सुविधा दी गई।

 

आर्टिकल 370 पर मोदी ने विपक्ष को घेरा
बिहार चुनाव में आर्टिकल 370 हटाने की चर्चा करते हुए पीएम मोदी ने कांग्रेस समेत विपक्ष पर हमला बोला। पीएम मोदीने कहा कि जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल-370 हटने का इंतजार देश बरसों से कर रहा था या नहीं। ये फैसला हमने लिया, एनडीए की सरकार ने लिया। लेकिन आज ये लोग इस फैसले को पलटने की बात कर रहे हैं। ये कह रहे हैं कि सत्ता में आए तो आर्टिकल-370 फिर लागू कर देंगे। उन्होंने कहा कि इन लोगों को आपकी जरूरतों से कभी सरोकार नहीं रहा। इनका ध्यान रहा है अपने स्वार्थों पर, अपनी तिजौरी पर। यही कारण है कि भोजपुर सहित पूरे बिहार में लंबे समय तक बिजली, सड़क, पानी जैसी मूल सुविधाओं का विकास नहीं हो पाया। मैं बिहार की भूमि से इन लोगों को एक बात स्पष्ट कहना चहता हूं- ये लोग जिसकी चाहे मदद ले लें, देश अपने फैसलों से पीछे नहीं हटेगा। भारत अपने फैसलों से पीछे नहीं हटेगा।

 

पीएम ने एनडीए सरकार की उपलब्धियां गिनाईं
कहा- नीतीश को 10 साल तक विकास का काम करने नहीं दिया, यूपीए के साथ झगड़े में समय बीता।

- बिहार के लिए, बिहार के उज्जवल भविष्य के लिए फिर एक बार नीतीश जी के साथ आए

- 2014 में सरकार बनाने के बाद नीतीश जी के साथ  तीन सेे चार बार ही काम करने का मौका मिला, बिहार को अभी मीलों आगे जाना है।

-बिहार के गरीब दलित वंचित, आदिवासी तक सुविधाएं पहुचाने का काम किया गया। आज उनके घर में भी शौचालय की सुविधा है, बिजली की सुविधा, पानी, और इलाज की सुविधा है।

- केंद्र  सरकार ने स्वामित्व योजना की शुरूआत की। इसमें सबकुछ टेक्नॉलजी की मदद से हो रहा है घर की मैंपिंग करवाई जा रही है।  

कृषि कानूनों को लेकर पीएम मोदी का विपक्ष पर हमला

मोदी ने कहा कि 2014 में केंद्र में सरकार बनने के बाद जितने समय बिहार को डबल इंजन की ताकत मिली, राज्य के विकास के लिए और ज्यादा काम हुआ है। राज्य को जो प्रधानमंत्री पैकेज मिला था, उसपर काम की रफ्तार भी तेज गति से आगे बढ़ रही है। गरीब दीवाली और छठ पूजा ठीक से मना सके, इसके लिए मुफ्त अनाज की व्यवस्था की गई है। इसी कोरोना के दौरान करोड़ों गरीब बहनों के खाते में सीधी मदद भेजी गई, मुफ्त गैस सिलेंडर की व्यवस्था की गई। देश जहां संकट का समाधान करते हुए आगे बढ़ रहा है, ये लोग देश के हर संकल्प के सामने रोड़ा बनकर खड़े हैं। देश ने किसानों को बिचौलियों और दलालों से मुक्ति दिलाने का फैसला लिया तो ये बिचौलियों और दलालों के पक्ष में खुलकर मैदान में हैं। उन्होंने कहा कि मंडी और MSP तो बहाना है, असल में दलालों और बिचौलियों को बचाना है। लोकसभा चुनाव से पहले जब किसानों के बैंक खाते में सीधे पैसे देने का काम शुरु हुआ था, तब इन्होंने कैसा भ्रम फैलाया था। जब राफेल विमानों को खरीदा गया, तब भी ये बिचौलियों और दलालों की भाषा बोल रहे थे। जब-जब, बिचौलियों और दलालों पर चोट की जाती है, तब-तब ये तिलमिला जाते हैं, बौखला जाते हैं। आज हालत ये हो गई है कि ये लोग भारत को कमजोर करने की साजिश रच रहे लोगों का साथ देने से भी नहीं हिचकिचाते।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment