Close X
Sunday, November 28th, 2021

इंद्रप्रस्थ प्रेस क्लब ऑफ इंडिया करेगा कल से रक्तदान, नेत्रदान, अंगदान अभियान की शुरुआत - बेहतर रिर्पोटिंग करने वाले 11 पत्रकारों का होगा सम्मान

SDGआई एन वी सी न्यूज़
नई दिल्ली , देश  के मीडियाकर्मियों के षीर्श संगठन इंद्रप्रस्थ क्लब ऑफ इण्डिया 2 दिसम्बर, 2014 को नई दिल्ली में ‘महादान कैम्प’ का आयोजन कर रहा है । ये कैम्प आई.टी.ओ. स्थित चंद्रषेखर भवन, निकट हिन्दी भवन में सुबह 10ः00 बजे से दोपहर 3ः00 बजे तक चलेगा । इस महादान कैम्प में मीडियाकर्मी सुरक्षित रक्तदान करेंगे एवं नेत्रदान व अंगदान की षपथ लेंगे । ये कैम्प स्वास्थ्य के क्षेत्र में कार्य कर रही एक संस्था ‘प्रिवेंटिव हेल्थ स्क्रीनिंग प्रोग्राम’,(पीएचएसपी) के सहयोग से आयोजित ंिकया जा रहा है । ये संस्था कैम्प में रक्तदान एवं अंगदान और नेत्रदान की षपथ लेने वाले मीडियाकर्मियों का एक डाटा भी तैयार करेगी । जिसे वेबसाइट पर उपलब्ध कराया जायेगा । आई.पी.क्लब की महासचिव श्रीमती अंजली भाटिया के मुताबिक कैम्प में मुख्य रूप से दिल्ली में बेहतर स्वास्थ्य के प्रति अपनी कलम एवं कैमरा के जरिये लोगों को जागरूक करने वाले 11 चुनिंदा उन पत्रकारों को भी सम्मानित किया जायेगा जो स्वास्थ्य की रिपोर्टिंग कर रहे हैं । ये पत्रकार श्री ज्ञानप्रकाष, (राश्ट्रीय सहारा), श्री धनंजय (नई दुनिया), श्री राहुल आनंद (नवभारत टाइम्स), सुश्री निषी भट्ट (हिंदुस्तान), श्री रणविजय सिंह (दैनिक जागरण), श्री पवन कुमार (अमर उजाला), सुश्री प्रतिभा षुक्ला (जनसत्ता), सुश्री अनु जैन रोहतगी (आज तक), श्री सिध्दार्थ दत्ता (हिंदुस्तान टाइम्स), सुश्री सिम्मी श्रीवास्तव (स्टेट्समेन), सुश्री पूजा मक्कड (जी न्यूज), सुश्री बिंदू (द हिन्दू)। आई.पी.क्लब की उपाध्यक्ष केनू अग्रवाल एवं संतोश सूर्यवंषी ने बताया कि स्वास्थ्य सेवाओं में अपना अभूतपूर्व योगदान देने के लिए ऐम्स के ऑरगन रिटरिवल इेकिंग ऑर्गनीईजेषन की इंचार्ज डा. अनीता विज, रेड क्रास सोसायटी ऑफ इंडिया की डायरेक्टर व प्रोग्राम इंचार्ज डा. वंश्री सिंह, हेड ऑफ डिपार्टमेंट बल्ड बैंक आर.एम.एल अस्पताल डा. वीना डोडा, आई बैंक गुरूनानक आई सेंटर की इंचार्ज डायरेक्टर प्रो. रितु अरोड़ा, रिहेबिलियेषन सुप्रिटेंडेंट व सीनियर फेकल्टी दीन दयाल उपाध्याय विकलांग जन संगठन डा. ललित नारायण, सीनियर प्लास्टिक सर्जन बर्नस प्लास्टिक व मेक्सिलोफेषियल एल.एन.जे.पी अस्पताल डा. पी.एस. भंडारी, प्रिवेन्टिव हेल्थ स्क्रिनिंग प्रोग्राम से रोहित अग्रवाल, डा. मनप्रीत ओबेराय, महादान अभियान के प्रमोटर्स श्री एच.एन. षर्मा सामाज सुधारक व दिल्ली न्यूज़ ऐजेन्सी की सी.ई.ओ श्रीमती मोनिषा भाटिया पंवार को इंडियन मेडिकल एसोसिएषन के अध्यक्ष डा. जितेन्द्र पटेल, इंडियन मेडिकल एसोसिएषन के महासचिव डा. नरेन्द्र सैनी, दिल्ली मेडिकल काउंसिल के सदस्य डा. अनिल अग्रवाल, दिल्ली मेडिकल एसोसिएषन के अध्यक्ष डा. अनिल गोयल, दिल्ली मेडिकल एसोसिएषन के महासचिव डा. एस.के. पोद्दार, इंडियन मेडिकल एसोसिएषन के वरिश्ट उपाध्यक्ष डा. के.के अग्रवाल, इंडियन मेडिकल एसोसिएषन के पूर्व अध्यक्ष डा. विनय अग्रवाल, नेषनल मेडिकल फोरम के अध्यक्ष डा. प्रेम अग्रवाल, दिल्ली मेडिकल काउंसिल के सदस्य डा. हरीष गुप्ता, दिल्ली मेडिकल काउंसिल के रजिस्टर्र डा. गिरीष त्यागी, दिल्ली मेडिकल एसोसिएषन के पूर्व सचिव डा. के.के. कोहली सम्मानित करेंगे। आई.पी.क्लब की उपाध्यक्ष केनू अग्रवाल एवं संतोश सूर्यवंषी के मुताबिक हमारे समाज में सभी धर्मों, संप्रदायों और समाजों में दान की प्रेरणा दी गई है । अपने अपने धर्मों से जुड़े लोग समय समय पर किसी न किसी तरीके से दान कार्यों में षामिल होते रहते हैं । लेकिन सभी धर्मों में तीन तरह के दानों को महादान बताया जाता है । ये महादान रक्तदान, नेत्रदान और अंगदान हैं । इनमें रक्तदान जीवित अवस्था में किया जा सकता है और अन्य दो दान मृत्यू के पष्चात मृतक की इच्छा के अनुसार परिवार के सदस्य पूरा करते हैं । मीडियाकर्मी भी समाज का एक अभिन्न हिस्सा है । हम लोग समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारियां कलम और कैमरे के जरिये तो पूरी करते ही हैं, साथ ही हम इस महादान अभियान में षामिल होकर समाज और अपनी फ्रैटरनिटी के प्रति भी एक अहम और बडी जिम्मेदारी पूर्ण करने की भूमिका अदा कर सकते हैं । आइए, हम सब अपने परिवार के साथ इस महाअभियान में षामिल हों । इस महादान में हम किस तरह से षामिल हो सकते हैं, उसकी एक विस्तृत जानकारी हम आपके समक्ष रख रहे हैं । आई.पी.क्लब के सचिव मनु षर्मा के अनुसार भारत में करीब 11 लाख नेत्रहीन हैं, जो नेत्रदान के जरिए अपनी आंखों की रोषनी प्राप्त कर दुनिया को देख सकते हैं । इनमें से करीब 25 हजार ने तो विभिन्न सेंटरों में कोर्निया को प्राप्त करने का रजिस्ट्ªेषन भी करवाया हुआ है । डाक्टरों के अनुसार 60 वर्श से नीचे की आयु का व्यक्ति नेत्रदान कर सकता है । दानकर्ता चष्मा लगाता हो, या फिर उसकी आंख का आप्रेषन हो चुका हो। आंखें छह घंटे के भीतर ही मृत षरीर से निकल जानी चाहिए । मृत षरीर से आंखें निकालने में 10 से 15 मिनट लगते हैं । नेत्र बैंक या फिर हमारी  संस्था के किसी भी प्रतिनिधि को सूचित किया जा सकता है । नेत्र बैंक के डाक्टर स्वयं मृतक के घर या फिर अस्पताल जाते हैं । नेत्रदान करने वाले का कोई खर्चा भी नहीं आता है । दान में प्राप्त हुई आंख से दो नेत्रहीन व्यक्ति देख सकते हैं । नेत्र खरीद नहीं सकते हैं । ये एक तरह से पूर्ण दान है । आई.पी.क्लब के वरिश्ठ उपाध्यक्ष षिवेंद्र एवं कोशाध्यक्ष नरेष गुप्ता के अनुसार दिल्ली में प्रतिवर्श 5 लाख यूनिट रक्त की आवष्यकता होती है । मांग और पूर्ति में भारी अंतर हैं । इस अंतर को पाटने का एक मात्र उपाय है कि समाज का प्रत्येक व्यक्ति रक्तदान को अपना नैतिक कर्तव्य समझे । यदि हम स्वस्थ हैं और हमारा वजन 45 किलोग्राम या फिर उससे ज्यादा है और आयु 18 वर्श से 60 साल के बीच है, तो हम रक्तदान कर सकते हैं । रक्तदान से षरीर पर कोई भी विपरीत प्रभाव नहीं पड़ता है । रक्तदान के फौरन बाद हम अपनी दिनचर्या को पहले की तरह षुरू कर सकते हैं । जो रक्त हम दान करते हैं, वो षरीर बहुत कम समय में सिर्फ 48 घंटे में पूरा कर लेता है । तीन माह के बाद हम फिर से रक्तदान कर सकते हैं । रक्तदान की प्रक्रिया में 15 से 20 मिनट लगते हैं । रक्तदान की प्रक्रिया में इस्तेमाल होने वाले उपकरण दोबारा इस्तेमाल नहीं किए जाते हैं । हमारा थोड़ा सा समय किसी को जीवन दे सकता है । आइए इस महाअभियान में षामिल हों । अंगदान का मतलब अपने अंगों के जरिए किसी को जीवन का एक अमूल्य तोहफा देना है । अंगदान वही कर सकता है, जिसका मस्तिश्क कार्य करना बंद कर देता है । मेडिकल भाशा में इसे ब्रेनडेथ बोलते हैं । ब्रेनडेथ में मस्तिश्क कार्य करना बंद कर देता है, लेकिन षरीर के अंगों में आक्सीजन जा रहा होता है । दानकर्ता का हृदय, लंग्स, किडनी और लीवर दान में लिया जा सकता है । उसके लिए विषेश डाक्टरों की टीम फैसला लेती है कि मृतक के षरीर से कौन सा अंग दान में लिया जाए । अंगदान सिर्फ अस्पताल में ही संभव है । दिल्ली में सिर्फ अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में आर्गेन ट्रांसप्लांट संभव है ।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment