Friday, June 5th, 2020

आम लोगों को मिलेगी बड़ी राहत

गोरखपुर। यूपी के सीएम योगी आदित्य नाम ने कोरोना वायरस के कारण प्रभावित हुए लोगों को राहत देने के लिए रिजर्व बैंक आफ इंडिया (RBI) के निर्णयों का स्वागत किया है।रिजर्व बैंक द्वारा राहत की घोषणा के बाद Tiwett कर कहा कि RBI के निर्णय से आम लोगों को काफी राहत मिलेगी।
सीएम ने यह किया Tiwett

सीएम योगी आदित्य नाथ ने लिखा कि- वैश्विक महामारी कोरोना के दुष्प्रभाव से देश की अर्थव्यवस्था को बचाने हेतु @RBI द्वारा लिए गए निर्णय का स्वागत है।

इन घोषणाओं से मुद्रा के प्रवाह में सुधार होगा, व्यवसायों को मदद मिलेगी, लोन की किस्त जमा करने में तीन माह की राहत से आमजन को बड़ी सुविधा होगी।

रिजर्व बैंक ने दी यह राहत

इसके पूर्व कोरोना वायरस के इफेक्ट को देखते हुए रिजर्व बैंक ने बड़ी राहत देते हुए रेपो रेट को 0.75 घटा दिया था। आटो लोन, होम लोन, पर्सनल लोन व अन्य तरह के लोन को चुकाणने में भी राहत देते हुए तीन माह तक लोन की किश्त न चुकाने पर भी रिहत दी। रिजर्व बैंक ने इस संबंध में  सभी बैंको को दिशा निर्देश भी जारी किया है। रिजर्व बैंक ने बैंकों को सलाह दिया है कि वे तीन माह तक लोन न वसूलें।

आम लोगों ने भी सराहा

ईएमआइ (इक्वेटेड मंथली इंस्टालमेंट्स) जमा करने में तीन महीने की छूट का रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया का फैसला शुक्रवार को लोगों को बड़ी राहत दे गया। फैसले को गोरखपुर के लोगोंं ने जमकर सराहा है। उनका कहना है कि वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए जनहित में यह फैसला बहुत जरूरी था। क्योंकि बहुत से लोग इसे लेकर परेशान थे।

पूर्व पोस्टमास्टर सतीश चंद्र राय ने कहा कि इस समय व्यक्ति घरेलू जरूरतों को लेकर परेशान है, ऐसे में रिजर्व बैंक ने ईएमआइ जमा करने से मुक्ति देकर राहत दी है। हालांकि यह राहत फौरी है लेकिन इसकी जरूरत हर व्यक्ति महसूस कर रहा था। चार्टर्ड एकाउंटेंट आशुतोष बंका ने कहा कि इससे तीन महीने तक ईएमआइ जमा न करने के बावजूद लोन लेने वाला व्यक्ति बैंक के लिए डिफाल्टर नहीं होगा। हालांकि बाद में एक साथ तीन किस्त की रकम ब्याज के साथ जमा करनी होगी। दीवान बाजार की रहने वाली अनीता ने कहा कि ऐसे निर्णय की सख्त जरूरत थी। इस समय हमारा ध्यान पूरी तरह से कोरोना की आपदा से निपटने पर है। ऐसे में फिलहाल ईएमआइ जमा करने से मुक्ति देकर रिजर्व बैंक ने बेहतर फैसला लिया है। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment