आई एन वी सी न्यूज़
जयपुर,
सहकारिता एवं इन्दिरा गांधी नहर परियोजना मंत्री उदयलाल आंजना ने पर्यावरण के संरक्षण और इसके प्रति व्यापक जनचेतना को मौजूदा युग की सबसे बड़ी प्राथमिक जरूरत बताया है और कहा कि इसके लिए हम सभी को समर्पित प्रयासों में जुटने की आवश्यकता है।

सहकारिता मंत्री ने शनिवार को चित्तौड़गढ़ जिले में जिला प्रशासन एवं वन विभाग के संयुक्त तत्वावधान में जल शक्ति अभियान के अन्तर्गत जिला मुख्यालय पर गांधी नगर, दुर्ग तलहटी स्थित जैव विविधता वन में 70वें जिलास्तरीय वन महोत्सव में मुख्य अतिथि पद से संबोधित करते हुए यह आह्वान किया।

इस अवसर पर सहकारिता मंत्री ने वन देवी एवं सरस्वती की तस्वीर को माल्यार्पण एवं इनके समक्ष दीप प्रज्वलित कर वन महोत्सव का शुभारंभ किया और वन संरक्षण एवं विकास में उल्लेखनीय कार्यों व उत्कृष्ट सेवाओं के लिए 15 निजी व्यक्तियों एवं संस्थाओं वन र्कमियों और औद्योगिक प्रतिष्ठानों को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। उन्होंने जैव विविधता वन में वट का पौधा लगाकर पौधारोपण अभियान का शुभारंभ किया। बाद में सभी अतिथियों, मीडियाकर्मियों एवं उपस्थितजनों ने पौधारोपण में भागीदारी निभायी।

वन महोत्सव समारोह को संबोधित करते हुए सहकारिता एवं इन्दिरा गांधी नहर परियोजना मंत्री ने अधिक से अधिक पेड़ लगाने और उनके सुरक्षित पल्लवन के लिए वैयक्तिक जिम्मेदारी एवं सामाजिक फर्ज की भावना से काम करने का आहवान किया और कहा कि इसके लिए जन-जन में व्यापक जागरुकता संचार के साथ ही आम जन की भागीदारी बढ़ाने की आवश्यकता है।

उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देश दिए कि जिले में पेड़-पौधों की कटाई के मामलों में गंभीरता बरतते हुए पेड़ काटने वालों के खिलाफ सख्ती ये कार्यवाही अमल में लाए। श्री आंजना ने चित्तौडगढ़ जिले में अधिक से अधिक एनिकट बनाकर बरसाती पानी को जिले में ही रोकने पर जोर दिया और कहा कि केचमेंट एरिया में सभी के लिए उपयोगी सिद्ध होने वाली बेहतर तकनीक को अपना कर एनिकट बनाए जाने की जरूरत है।

अपने उद्बोधन में पूर्व विधायक श्री सुरेन्द्रसिंह जाड़ावत ने सर्वत्र पर्यावरण संतुलन को बनाए रखने के लिए कारगर प्रयासों पर जोर दिया और कहा कि अबकि बार प्रचुर मात्रा में पानी उपलब्ध है, इसे देखते हुए सब जगह बड़े पैमाने पर पौधारोपण गतिविधियों को हाथ में लिया जाना चाहिए।

चित्तौडगढ़ जिला कलक्टर शिवांगी स्वर्णकार ने वन महोत्सव की जरूरत बताते हुए कहा कि ग्लोबल वार्मिंग और सभी प्रकार की पर्यावरणीय समस्याओं से मुक्ति के लिए इस तरह के अभियान सार्थक भूमिका अदा करते हैं। उप वन संरक्षक शशि शंकर पाठक ने अतिथियों को पुष्पहार व पुष्पगुच्छ तथा पौधे भेंट कर स्वागत किया तथा वृक्षों एवं वनों से संबंधित ऎतिहासिक एवं पौराणिक संदर्भों युक्त महत्ता पर प्रकाश डाला।

इस अवसर पर नगर विकास न्यास के सचिव श्री सीडी चारण, उपखण्ड अधिकारी श्री विनोद कुमार, जन प्रतिनिधि, अधिकारी, विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधि, स्कूली बच्चे एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।