Thursday, July 16th, 2020

आम की सबसे अधिक प्रजातियां उत्तर प्रदेश में

आई एन वी सी न्यूज़
लखनऊ,
प्रदेश के उद्यान, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग के मंत्री श्री दारा सिंह चैहान ने कह कि उत्तर प्रदेश में आम की सबसे अधिक प्रजातियां पायी जाती है। इस आम महोत्सव के माध्यम से सरकार द्वारा यह प्रयास किया जा रहा है कि आम के उत्पादन, प्रसंस्करण, विपणन, निर्यात एवं गुणवत्ता में वृद्धि के सभी आयामों पर परिचर्चा करके सम्बंधित विभागों/अधिकारियों/वैज्ञानिकों के साथ समन्वय कर बागवानों को अधिकाधिक लाभ प्राप्त करने के अवसर उपलब्ध कराये जाये।

यह विचार श्री चैहान आज यहां इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान गोमतीनगर में आयोजित दो दिवसीय ‘‘उ0प्र0 आम महोत्सव-2019’’ का शुभारम्भ करने के उपरान्त व्यक्त किये। उन्होंने कहा आम का फल अपने स्वाद के कारण सर्वाधिक लोकप्रिय फल है। आम का उत्पादन उत्तर प्रदेश में सर्वोधिक होता है। उ0प्र0 में लगभग सभी जनपदों में आम के बाग है। उन्होंने कहा कि हर शुभ काम में आम की पत्ती की जरूरत पड़ती है। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 में आम की सैकड़ों किस्में जैव विविधता के रूप में संरक्षित है जिनका प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में उत्पादन होता है। उत्तर प्रदेश आम महोत्सव-2019 की स्मारिका का विमोचन करने के साथ ही वन उद्यान मंत्री श्री चैहान ने प्रदेश के दस उत्कृष्ट उत्पाद प्रदर्शित करने वाले आम उत्पादकों एवं निर्यातकों, उन्नाव से श्री नामित कुमार सिंह एवं देवेन्द्र सिंह, लखनऊ से श्री राज कुमार सिंह, श्री मुकेश द्विवेदी एवं श्री खान अशहर अहमद, बहराइच के श्री घनश्याम सिंह, सहारनपुर के श्री सत्य कुमार, गोण्डा के श्री अतुल कुमार सिंह, सीतापुर के श्री दीपक शुक्ला एवं वाराणसी के श्री विनयादित्य चैधरी को सम्मानित किया।

उद्यान मंत्री ने आम महोत्सव का अवलोकन किया तथा उन्होंने कहा कि इस प्रदर्शनी में इतनी बड़ी मात्रा में रंग-बिरंगे एवं विभिन्न आकार-प्रकार के आम की विभिन्न प्रजातियों को एक स्थान पर देखकर किसी के भी मन में न केवल इनका स्वाद लेने की बल्कि अपने बागों में इनका उत्पादन करने की इच्छा जागृत होना स्वाभाविक है। अनेकों प्रजातियों के आम का प्रदर्शनी विभिन्न संस्थाओं/बागवानों द्वारा यहां पर किया गया है, एवं अन्य प्रदेशों से भी आम की प्रजातियां यहां पर लोकर प्रदर्शित की गई है।

इस अवसर पर राज्यमंत्री वन एवं पर्यावरण जन्तु उद्यान विभाग श्री उपेन्द्र तिवारी ने कहा कि आम उत्पादकों को अपने बागों में नवीनतम प्रजातियों के विकास के अवसर सुलभ होंगे और आमजनों को आम के पौधों को अपनी भूमि पर लगाने के लिए प्रेरणा मिलेगी। उन्होंने कहा कि बागवानी से किसान अपनी आय बढ़ा सकते है। फलों में आम को राजा कहा जाता है।
खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री श्री अनिल राजभर ने कहा कि किसानों के विकास के लिए राज्य सरकार निरन्तर प्रयास कर रही है। राज्य सरकार किसानों के लिए विभन्न योजनायें संचालित करते हुए किसानों को लाभान्वित करा रही है। आम का उत्पादन सबसे अधिक उ0प्र0 में होता है।

मुख्य सचिव श्री अनूप चन्द्र पाण्डेय ने कहा कि उ0प्र0 आम के क्षेत्रफल एवं उत्पादन में अग्रणी प्रदेश है। किसानों के लिए राज्य सरकार द्वारा विभिन्न योजनाये संचालित करते हुए किसानों को लाभान्वित किया जा रहा है।  

प्रमुख सचिव उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण श्री अमित मोहन ने बताया कि दो दिन तक चलने वाले इस आम महोत्सव में 04 श्रेणियों में आम की विभिन्न प्रजातियों तथा आम के प्रसंस्कृत पदार्थों की प्रतियोगिता भी आयोजित की गयी है, जिसमें आम की 700 प्रजातियां अलग-अलग संस्थाओं, विभागों एवं निजी उत्पादकों द्वारा प्रदर्शित की गई तथा 710 प्रतिभागियों द्वारा 2896 नमूने प्रदर्शित किये गये है।

प्रमुख सचिव ने बताया कि केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान लखनऊ, उद्यान विभाग, उ0प्र0 के सहारनपुर, बस्ती एवं मलिहाबाद, लखनऊ में स्थापित औद्यानिक प्रयोग एवं प्रशिक्षण केन्द्रों तथा प्रगतिशील बागवानों के द्वारा अपने-अपने संस्थानों/बागों में उगाये जाने वाली प्रजातियों का प्रदर्शन किया गया है, जिसमें बागवानों एवं लघु उद्यमियों के द्वारा बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया गया है। इसके अतिरिक्त नरेन्द्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कुमारगंज, अयोध्या तथा सरदार वल्लभाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, मेरठ में भी महोत्सव में खाद्य प्रसंस्करण स्टालों को सम्मिलित करते हुए कुल 48 स्टाॅल लगाये हैं। इसके साथ ही महोत्सव में बागवानों द्वारा स्वयं आम की विभिन्न प्रजातियों के पौधे तथा आम बिक्री हेतु स्टाॅल लगाये गये हैं। शहर उत्पादक कृषक द्वारा शहद की बिक्री हेतु महोत्सव में स्टाॅल लगाये गये है। दर्शकों द्वारा विभिन्न  प्रजाति के ताजे आम, विभिन्न प्रजाति के पौधों तथा उच्च गुणवत्ता के आम के आम के प्रसंस्कृत पदार्थों की जमकर खरीददारी की जा रही है। महोत्सव में प्रदेश के बाहर अन्य प्रदेशों उत्तराखण्ड, मध्य प्रदेश तथा छत्तीसगढ़ प्रान्तों के बागवानों ने भी अपने आम की विभिन्न प्रजातियों का प्रदर्शन किया है।

इस अवसर पर महापौर सुश्री संयुक्ता भाटिया, लखनऊ मण्डल के मण्डलायुक्त श्री अनिल गर्ग, विशेष सचिव उद्यान सुश्री संदीप कौर, निदेशक उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण श्री राघवेन्द्र प्रताप सिंह सहित अन्य सम्बंधित अधिकारी आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती अनीता सहगल ने किया।
 



 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment