Close X
Wednesday, September 23rd, 2020

आतंक फैलाने में मदद कर रहा चीन

पाकिस्तान द्वारा कश्मीर में घुसपैठ और आतंकी साजिश को पर्दे के पीछे से चीन का समर्थन मिल रहा है। भारतीय एजेंसियो ने आशंका जताई है कि चीन पाकिस्तान को सीमावर्ती इलाकों में सुरंग बनाने में तकनीकी मदद के अलावा ड्रोन व हथियार सप्लाई कर रहा है। चीनी पीएलए और पाक सेना व आईएसआई की मिलीभगत से कश्मीर में अस्थिरता की योजना एजेंसियो के राडार पर है।

सुरक्षा एजेंसी से जुड़े एक अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान को चीन तकनीकी मदद दे रहा है। सुरंग के लिए पाकिस्तान को प्रशिक्षण और साजो-सामान मुहैया कराए जा रहे हैं। एजेंसियो की नजर सांबा सेक्टर में है, जहां पहले भी सुरंग पकड़ में आ चुकी है।

गौरतलब है कि एलएसी पर चीन से तनातनी के बीच ही पिछले महीने खबर आई थी कि चीन पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) में मानसेहरा से मुजफ्फराबाद तक सुरंग बना रहा है। साथ ही वह पाकिस्तान को एडवांस ड्रोन और हथियार की भी आपूर्ति कर रहा है। पाकिस्तानी सेना की इस सुरंग को चीन के टेक्निशियन तैयार कर हैं। इस सुरंग के बन जाने से खैबर-पख्तून-ख्वा से पीओके की दूरी कम हो जाएगी। साथ ही पाकिस्तानी सेना की पीओके तक पहुंच आसान हो जाएगी।

बीएएसएफ का सुरंग-रोधी दस्ता सक्रिय

बीएसएफ का सुरंग-रोधी दस्ता (एंटी टनल स्कवायड) संदिग्ध स्थानों पर पूरी तरह से सक्रिय रहता है। अमूमन धान लगने के वक्त सीमा पार से सुरंग खोदने की आशंका बढ़ जाती है। जमीन में नमी होने की वजह से जमीन खोदना आसान हो जाता है। अरनिया और सांबा सेक्टर में पहले भी सुरंग खोदकर घुसपैठ की कोशिश हो चुकी है।

सुरंग-रोधी तकनीक मज़बूत बनाने पर जोर

जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि पिछले कुछ समय में सामने आया है कि सीमा पर पाकिस्तान जो सुरंग बनाने की कोशिश करता है उसमें चीन की तकनीक शामिल होती हैं। पिछले कुछ सालों में लगातार पाकिस्तान ये कोशिश करता रहा है। उन्होंने कहा कि हमें सुरंग-रोधी तकनीक को मजबूत बनाने की जरूरत है। PLC.
 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment