Close X
Monday, April 19th, 2021

आज का दिन हमारे लिये बड़ा ही गौरवशाली दिन है : भूपेन्द्र सिंह हूड्डा

bhupinder singh hoodaआई एन वी सी, चंडीगढ, हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डïा ने 68वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर  राज्य के लोगों को बधाई एवं शुभकामनाएं  देते हुए  कृषि, जल संरक्षण, शिक्षा, खेल, स्वास्थ्य, सडक़ तंत्र, उद्योग आदि के क्षेत्रों में विकसित देशों जैसा अति आधुनिक इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करने की अनेक भविष्य की योजनाओं  का विजन प्रस्तुत किया। श्री हुड्डïा आज 68वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर पानीपत में आयोजित राज्य स्तरीय समारोह में राष्टï्रीय ध्वज को सलामी देने व परेड का निरीक्षण करने उपरान्त उपस्थित लोगों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पीने के पानी की बढ़ोतरी करना, युवाओं के लिए रोजगार के और अधिक अवसर उपलब्ध करवाना, हर गरीब को छत देना और समाज कल्याण को नये आयाम देना हमारा लक्ष्य है। इसके अलावा, उच्चतर शिक्षा को और अधिक बढ़ावा देने के लिए हर जिले में एक सरकारी विश्वविद्यालय खोलने ,युवाओं को रोजगार सक्षम बनाने के लिए 500 कौशल विकास केन्द्र खोलने तथा  हर जिला अस्पताल को 200 बिस्तरों का बनाने की योजना है। ई-सेवा के लिए 2500 नागरिक सेवा केन्द्र खोलने तथा सामाजिक सुरक्षा पैंशन में हर वर्ष बढ़ौतरी करने की घोषणा भी की। उन्होंने कहा कि कृषि उत्पादकता बढ़ाने व पानी का सदुपयोग करने, फलों एवं सब्जियों की पैदावार बढ़ाने के लिए एक लाख हैक्टेयर क्षेत्र को भूमिगत पाइप लाइन के अधीन लाया जाएगा। पॉली हाऊस तथा बागवानी को बढ़ावा दिया जाएगा। कृषि क्षेत्र में इजराइल के सहयोग से खोले गए सब्जी उत्कृष्टता केन्द्र घरोंडा और फल उत्कृष्टता केन्द्र मंगियाना की तर्ज पर प्रदेश के दूसरे क्षेत्रों में  भी ऐसे केन्द्र स्थापित  किए जाएंगे। प्रदेश में कनैक्टिविटी को बढ़ाने के लिए सभी जिलों को जोडऩे वाली सडक़ों को भी चारमार्गी बनाया जाएगा।  दस हजार की जनसंख्या वाले गांवों में पेयजल का स्तर 70 लीटर प्रति व्यक्ति प्रति दिन से बढ़ाकर 110 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन किया जाएगा। छोटे दुकानदारों को बाढ़, आग आदि से नुकसान पर पांच लाख रुपये तक की आर्थिक मदद दी जाती है। रेहड़ी व फड़ी वालों के लिए रेहड़ी बाजार विकसित किये जाएंगे। उन्होंने कहा कि  हरियाणा देश का ऐसा राज्य है, जिसने दूसरे राज्यों की तुलना में डीजल और पैट्रोल पर कर की दरें कम रखी हैं। हमने एलपीजी को कर मुक्त किया हुआ है। मुख्यमंत्री ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर जेलों में सजायाफता कैदियों के लिए के सदाचार को देखते हुए 6 महीने की सजा माफ करने की घोषणा भी की। इसके अलावा उन्होंने पानीपत सहकारी चीनी मिल को शहर से बाहर डाहर गांव में स्थापित करने तथा टैक् सटाईल उद्यमियों की जायज मांगों को सहानुभूतिपूर्वक विचार करने का आश्वासन भी दिया। उन्होंने कहा कि आज का दिन हमारे लिये बड़ा ही गौरवशाली दिन है। हम सब जानते हैं कि हमें स्वतन्त्रता कितनी कठिनाइयों तथा संघर्ष के बाद प्राप्त हुई थी। इस आजादी के लिए एक ओर तो गांधी जी के नेतृत्व में लाखों लोगों ने असहयोग आंदोलन में भाग लिया तथा जेलों में यातनाएं सहीं। वहीं दूसरी ओर हजारों देशभक्तों ने अपनी मातृभूमि के सम्मान में  अपने प्राण न्योछावर किए। उन्हीं ज्ञात-अज्ञात देशभक्तों के बलिदान के फलस्वरूप आज हम आज़ाद भारत में संास ले रहे हैं। मुख्यमंत्री ने देश की आज़ादी तथा राष्ट्र की एकता और अखण्डता की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले सभी ज्ञात-अज्ञात शहीदों को कोटि-कोटि नमन करते हुए कहा कि यह बड़े गर्व की बात है कि देश की आजादी के लिए हरियाणा के अनेक वीरों ने अपने प्राणों की आहूति दी। आज भी हरियाणा के जवानों में देश की सीमाओं की रक्षा के लिए फौजी वर्दी के प्रति एक विशेष उत्साह है। देश की रक्षा सेनाओं में हर दसवां जवान हरियाणा से है। उन्होंने कहा कि पानीपत मानवता को साम्प्रदायिक सद्भाव और आपसी भाईचारे का पाठ पढ़ाने वाले सूफी संतों का एक प्रमुख केन्द्र रहा है। उन्होने कहा कि तीन-तीन ऐतिहासिक युद्धों के गवाह रहे पानीपत के लोगों ने भी आजादी की लड़ाई में बढ़-चढ़ कर भाग लिया था। इनमें मौलाना नका-उल्ला, देशबंधु गुप्त, डॉ. गोपीचन्द भार्गव, रौशन पानीपती जैसे नाम विशेषकर उल्लेखनीय हैं। इस जिले के नौल्था क्षेत्र के 16 गांवों ने अंग्रेजी शासन को राजस्व देने से इनकार कर दिया था। बू-अलीशाह कलन्दर का मकबरा आजादी की गतिविधियों का केन्द्र रहा। काला अम्ब का स्मारक आज भी मराठों के बलिदान की कहानी कहता है। श्री हुड्डïा ने आज़ादी के बाद हमने शानदार उपलब्धियां हासिल की हैं। आज भारत दुनिया की एक बड़ी आर्थिक ताकत बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। इसका श्रेय पण्डित जवाहरलाल नेहरू जी, लाल बहादुर शास्त्री जी, श्रीमती इंदिरा गांधी जी और राजीव गांधी जी जैसे महान् नेताओं को  जाता है। उन्होंने कहा कि मेरे लिए यह गौरव की बात है कि मेरा सम्बन्ध स्वतंत्रता सेनानी परिवार से है। मेरे दादा जी और मेरे पिता जी महान् स्वतंत्रता सेनानी थे। देश प्रेम, जन सेवा तथा कर्तव्य निष्ठा जैसे गुण मुझे विरासत में मिले हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा में स्वतंत्रता सेनानियों और उनकी विधवाओं को 25 हजार रुपये मासिक पेंशन  दी जाती है इसके अलावा, सैनिकों को  शौर्य पुरस्कार के लिए दो करोड़ रुपये तक की एकमुश्त राशि दी जाती है जो देश में सर्वाधिक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि  सैनिकों के  कल्याणार्थ  हरियाणा सरकार ने 1962की लड़ाई तथा इसके बाद की लड़ाईयों में शहीद हुए शहीद हुए जवानों के आश्रितों को  भी गु्रप सी और ग्रुप डी की नौकरी प्रदान करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि आज के दिन हमें यह आत्म-चिंतन करना है कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी तथा दूसरे स्वतंत्रता सेनानियों के सपनों को हम कहां तक साकार कर पाए हैं। उन्होंने कहा कि हमने 5 मार्च, 2005 को प्रदेश के शासन की बागडोर पहली बार संभाली थी। उस समय हमने प्रदेश के विकास का एक रोडमैप तैयार किया था। एक ऐसा हरियाणा बनाने का, जहां के लोग स्वस्थ हों, शिक्षित हो, खुशहाल हों, समृद्ध हों। एक ऐसा हरियाणा, जहां खेतों में भरपूर पैदावार हो। जहां अधिक से अधिक उद्योग लगें। समूचे प्रदेश का समूचा विकास हो। हरियाणा विकास के हर क्षेत्र में आगे बढ़े। विकास के लाभ आम आदमी तक पहुंचे। उन्होंने कहा कि मुझे यह कहते हुए बड़ा गर्व हो रहा है कि हमने इस रोडमैप के अनुसार सफलता प्राप्त की है। चाहे कोई भी फील्ड हो, कृषि विकास दर की बात हो, बिजली की बात हो, सिंचाई का क्षेत्र हो, समाज कल्याण का क्षेत्र हो, खेल का क्षेत्र हो, चाहे पर-कैपिटा इनवैस्टमेंट हो, प्रति व्यक्ति आय हो, हर फील्ड में हरियाणा आज अग्रणी पंक्ति में  खड़ा है। कुशल वित्तीय प्रबंधन, प्रति व्यक्ति प्लान बजट, वित्तीय संसाधन और प्रति व्यक्ति आय प्रगति का पैमाना होते हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा का 2014-15 का प्लान बजट 32731 करोड़ रुपये है, जो 2004-05 के प्लान बजट से 14 गुणा से भी ज्यादा है। हरियाणा की प्रतिव्यक्ति आय 1,35,007 रुपये वार्षिक है। यह देश के बड़े राज्यों में सबसे ज्यादा है। प्रतिव्यक्ति निवेश में भी हम आगे हैं। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर स्वतंत्रता सेनानियों, वीरांगनाओं, विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट सेवा करने वाले कर्मचारियों, खिलाडिय़ों, विद्यार्थियों, समाजसेवी संस्थाओं व जल संरक्षण में बेहतर करने वाली ग्राम पंचायतों को सम्मानित भी किया। समारोह में स्कूली बच्चों ने स्वतंत्रता दिवस पर शानदार प्रस्तुतियां पेश कर दृशकों का मन मोह लिया। मिलेनियम पब्लिक स्कूल को प्रथम, जवाहर नवोदय विद्यालय नौल्था को द्वितीय तथा दिल्ली पब्लिक स्कूल पानीपत को तृतीय स्थान प्राप्त हुआ। जबकि परेड में हरियाणा पुलिस को प्रथम, एनसीसी गल्र्ज को द्वितीय तथा एनसीसी ब्वाईज को तृतीय स्थान मिला। मुख्यमंत्री ने स्कूली बच्चों को मिठाईयों के लिए अपने स्वैच्छिक कोष से 5 लाख रूपये तथा हरियाणा कला परिषद को 1 लाख रूपये देने की घोषणा भी की। समारोह में मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन द्वारा पंचायती जमीन पर चलाए जा पौधारोपण अभियान के तहत पौधारोपण किया। रैडक्रास की ओर से शारीरिक रूप से विकलांग व्यक्तियों को 50 ट्राईसाईकिल, 10 व्हील चेयर व अन्य उपकरण जरूरतमंद लोगों को वितरित किए। हरियाणा कला परिषद व दादा लख्मीचंद कला विकास मंच पानीपत द्वारा ग्रामीण आंचल में पारम्परिक तरीके से होने वाली विवाह रस्म की प्रस्तुती दी, जिस पर दृशकों ने तालियों की गडग़ड़ाहट से स्वागत किया। बाद में मुख्यमंत्री ने विशेष प्रतिभा की धनी 10 वर्ष की आशादीप स्कूल समालखा की छात्रा जान्हवी, जिसको छ: भाषाओं का ज्ञान है, को 5 लाख रूपये देने की घोषणा की ताकि उसकी पढ़ाई उच्च कोटि की संस्थाओं में करवाई जा सके। इस अवसर पर विधायक बलबीर पाल शाह, धर्मसिंह छौक्कर, ओमप्रकाश जैन, पूर्व मंत्री बिजेन्द्र कादियान, पूर्व मंत्री प्रसन्नी देवी, पूर्व विधायक एवं हरियाणा महिला विकास निगम की चेयरपर्सन राजरानी पूनम, मेयर भूपेन्द्र सिंह, जिला परिषद की चेयरपर्सन ज्योति जागलान, सरोज सांगवान, दीपचंद फूलिया, जगदेव मलिक, कर्णसिंह कादियान, शशि लूथरा, खुशीराम जागलान,डॉ0 राजेन्द्र सैनी, मुकेश टुटेजा, सुशील कुण्डू के अलावा रोहतक रेंज के आई जी अनिल राव, उपायुक्त अजित बालाजी जोशी, पुलिस अधीक्षक सतीश बालन, अतिरिक्त उपायुक्त आर.एस.वर्मा, नगराधीश प्रदीप कौशिक, एसडीएम अश्वनी मलिक, रैडक्रास के सचिव डॉ0 विकास, डॉ0 दयानन्द सिहाग व अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment