Close X
Friday, January 21st, 2022

अशोक गहलोत ने किया सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा प्रकाशित प्रचार साहित्य एवं सुजस के विशेषांक का लोकार्पण

आई.एन.वी.सी,, जयपुर,, मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने बुधवार को यहां मुख्यमंत्री निवास पर राज्य सरकार के चार साल पूरे होने पर सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा प्रकाशित प्रचार साहित्य एवं सुजस के विशेषांक का लोकार्पण किया। श्री गहलोत ने प्रकाशन के लिए सभी को बधाई देते हुए कहा कि राज्य सरकार ने पहली बार 13 फ्लैगशिप योजनाएं लागू की हैं जो लोगों की जिंदगी की राह को आसान बना रही हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार ने नया राजस्थान बनाने का संकल्प लिया जिसे मूर्त रूप दिया जा रहा है।श्री गहलोत ने सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा ‘सफलता के चार वर्ष- महत्वपूर्ण निर्णय एवं उपलब्धियां’ पुस्तक तथा ‘नया राजस्थान - प्रगति, समृद्घि और विश्वास (फोल्डर)’ शीर्षक से प्रकाशित विकासात्मक साहित्य को राज्य सरकार की नीतियों, योजनाओं, कार्यक्रमों और विशेषकर फ्लैगशिप योजनाओं की जानकारी जन-जन तक पहुंचाने की दृष्टि से महत्वपूर्ण बताया। ऊर्जा एवं जनसम्पर्क मंत्री डॉ जितेन्द्र सिंह ने मुख्यमंत्री को वर्तमान राज्य सरकार के चार वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर विभाग द्वारा राज्य एवं जिला स्तर पर आयोजित विकास प्रदर्शनी, विचार संगोष्ठी तथा प्रिंट एवं इलेट्रॉनिक मीडिया के सहयोग से लोक कल्याण की उपलब्धियों की जानकारी आम लोगों तक पहुंचाने के लिए किये जा रहे प्रयासों की जानकारी दी। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री सी. के. मैथ्यू, पुलिस महानिदेशक श्री हरीश मीना, अतिरित मुख्य सचिव (गृह) श्री अशोक सम्पतराम, प्रमुख शासन सचिव सूचना एवं जनसम्पर्क श्री राजीव स्वरूप, प्रमुख शासन सचिव सामान्य प्रशासन श्री सी. एम. मीणा, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री श्रीमत पांडे, प्रमुख शासन सचिव वित्त श्री गोविन्द शर्मा, मुख्यमंत्री के सचिव श्री रजत मिश्र, वित्त विभाग के सचिव श्री अखिल अरोड़ा, सूचना एवं जनसम्पर्क निदेशक श्री लोकनाथ सोनी, सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के अतिरित निदेशक श्री गोपाल शर्मा, उपनिदेशक मुख्यमंत्री जनसम्पर्क श्री फारूख आफरीदी, सहायक निदेशक श्री किशन कुमार व्यास, सुजस की सम्पादक श्रीमती पुष्पा गोस्वामी, सुजस के सीनियर आर्टिस्ट श्री विनोद शर्मा उप संपादक श्री गणपत नारनोलिया, श्री आलोक आनंद एवं अन्य उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment