राजीव जैन

नई दिल्ली.  रक्षा बलों की दीर्घकालीन स्थाई परिचालन जरूरतों को प्रोत्साहन देते हुए कल प्रथम अवाक्स (हवाई चेतावनी और नियंत्रण प्रणाली) प्लेटफॉर्म को भारतीय वायुसेना में शामिल कर लिया गया। भारतीय वायुसेना के पालम एयरबेस पर आयोजित एक विशेष समारोह में रक्षा मंत्री ए.के.एंटनी ने इस नवीन प्रणाली  को देश को समर्पित किया।
 
इस अवसर पर, रूस और इजरायल के राजदूत कोंसटेनटिन वासिकिएव और मार्क सोप्फर के अलावा वायुसेना अध्यक्ष एयर चीफ मार्शल एफ एच मेजर, एयर मार्शल पी वी नाईक, रक्षा सचिव विजय सिंह, पश्चिमी और मध्य वायु कमान के एयर ऑफीसर कमाडिंग इन चीफ, अन्य वरिष्ठ अधिकारी एवं अवाक्स स्कैवडर्न के योध्दाओं को संबोधित करते हुए एंटनी ने कहा कि भारतीय वायुसेना और सशस्त्र बलों के परिचालन क्षमताओं को बढ़ाने के हमारे सतत प्रयासों में यह एक महत्त्वपूर्ण और अविस्मरणीय अवसर है।

 हमारे सामरिक हितों और आर्थिक परिसम्पत्तियों की सुरक्षा के वर्तमान परिपेक्ष्य में आंतरिक सतर्कता बनाये रखने की आवश्यकता पर बल देते हुए एंटनी ने कहा कि नवीन अवाक्स भारतीय वायुसेना को एक उच्च स्तरीय स्थितिगत जागरूकता के साथ-साथ वायु क्षेत्र में वर्चस्व स्थापित करने में समर्थ बनाएगा। वायुसेना में शामिल नवीन अवाक्स स्क्वैड्रन आगरा के वायुसेना अड्डे से संचालित की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here