Saturday, January 18th, 2020

अर्थव्यवस्था की स्थिति चिंताजनक - BJP को बेनकाब करने के लिए आंदोलन की जरूरत

अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने और इस मुद्दे को आक्रामक ढंग से उठाने का फैसला किया है। एक तरफ जहां कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने देश की 'गंभीर' आर्थिक स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुए मोदी सरकार पर जनादेश का 'बेहद खतरनाक' ढंग से दुरुपयोग का आरोप लगाया है। वहीं, पार्टी ने इस मुद्दे को लेकर सरकार के खिलाफ 15 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक देशभर में आंदोलन का ऐलान किया है। पार्टी ने यह भी आरोप लगाया है कि मोदी सरकार खराब अर्थव्यवस्था से लोगों का ध्यान हटाने के लिए बदले की राजनीति कर रही है।

'BJP को बेनकाब करने के लिए आंदोलन की जरूरत'
पार्टी मुख्यालय में कांग्रेस महासचिवों, प्रदेश अध्यक्षों, पार्टीशासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों और अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि आंदोलन के जरिए मोदी सरकार को जनता के बीच बेनकाब करने की जरूरत है। सूत्रों के मुताबिक सोनिया गांधी ने कहा, 'हमारे संकल्प और संयम की परीक्षा ली जा रही है। बीजेपी के जनता के बीच बेनकाब करने के लिए कांग्रेस को आंदोलनकारी अजेंडे पर चलने की जरूरत है।'

'अर्थव्यवस्था से ध्यान हटाने के लिए बदले की राजनीति कर रही सरकार'
सूत्रों ने बताया कि बैठक में सोनिया गांधी ने कहा कि मोदी सरकार के तहत देश का लोकतंत्र खतरे में है। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार खुद को मिले जनादेश का बेहत खतरनाक ढंग से दुरुपयोग कर रही है। उन्होंने सरकार पर बदले की राजनीति के तहत विपक्षी नेताओं को परेशान करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि आर्थिक मोर्चे पर बढ़ रहे नुकसान से ध्यान हटाने के लिए सरकार 'अभूतपूर्व बदले की राजनीति' में शामिल है।

15 से 25 अक्टूबर तक देशभर में आंदोलन करेगी कांग्रेस
बैठक के बाद केसी वेणुगोपाल के साथ मीडिया को संबोधित करते हुए आरपीएन सिंह ने कहा कि सरकार की गलत आर्थिक नीतियों की वजह से अर्थव्यवस्था में सुस्ती आई है। उन्होंने कहा कि पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी की अध्यक्षता में हुई बैठक में सरकार के खिलाफ आंदोलन का फैसला हुआ है। कांग्रेस 15 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक देशभर में सरकार की आर्थिक नीतियों के खिलाफ आंदोलन करेगी, जिस वजह से 'अर्थव्यवस्था में सुस्ती' आई है। इसके अलावा 'आर्थिक सुस्ती' को हाईलाइट करने के लिए देशभर में 20 सितंबर से 30 सितंबर तक प्रदेश कांग्रेस कमिटी के डेलिगेट्स का कन्वेंशन होगा।

बैठक में शामिल नहीं हुए राहुल गांधी
बैठक में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी शामिल नहीं हुए। बैठक के बाद इस पर सफाई देते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह ने कहा, 'यह बैठक महासचिवों, प्रभारी महासचिवों और प्रदेश अध्यक्षों/कांग्रेस विधायक दल के नेताओं की थी। इसमें उन्हीं को बुलाया गया।'

मनमोहन सिंह ने भी अर्थव्यवस्था की स्थिति पर जताई चिंता
बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर चिंता जताई। बैठक में सोनिया के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, पार्टी के वरिष्ठ नेता एके एंटनी, अहमद पटेल, गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व पार्टी के कई महासचिव-प्रदेश प्रभारी, प्रदेश अध्यक्ष और विधायक दल के नेता शामिल हुए। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment