amit kajal bjpआई एन वी सी,
रोहतक,
  • बीरेंद्र सिंह के नजदीक एडवोकेट काजल भाजपा में शामिल
  • दिल्ली में अमित शाह की मौजूदगी में की पार्टी में शामिल होने की घोषणा
युवा शक्ति बदलाव की ओर संगठन के संयोजक एवं चौधरी बीरेंद्र सिंह के नजदीकी एडवोकेट अमित काजल आज भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। दिल्ली में भाजपा कार्यालय में आयोजित एक समारोह में उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह व महासचिव जेपी नड्डा की मौजूदगी में पार्टी में शामिल होने की घोषणा की। एडवोकेट काजल ने हाल ही में जींद में हुई रैली के आयोजन मंे अहम भूमिका अदा की थी। इस रैली में अमित शाह बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए थे। काजल रोहतक महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व महासचिव भी रह चुके हैं।
अमित काजल पिछले दो दशक से समाजसेवा और राजनीति के क्षेत्र में सक्रिय हैं। उन्हें वकालत का 17 साल का अनुभव है। डेमोक्रेटिक एजुकेशन फॉर एंटायर पापुलेशन के अध्यक्ष के तौर पर वे सामाजिक गतिविधियां चला रहे हैं। अमित काजल 1993-94 में महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के इतिहास में सबसे कम उम्र और सबसे अधिक मतों से जीत हासिल कर छात्र संघ चुनाव में महासचिव बने। 1994-95 में महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष का चुनाव भी लड़ा। 1994 मंे एनएसयूआई  के प्रदेश सचिव निुयक्त हुए। 2001 में युवा कांग्रेस (लीगल सैल) के प्रदेश महासचिव और 2002 में युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव बने। 2005 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में आल इंडिया यूथ कांग्रेस की ओर से आगरा मंडल के चुनाव पर्यवेक्षक व समन्वयक की भूमिका भी अदा की। 2012 में उत्तराखंड में हुए चुनाव में आल इंडिया कांग्रेस कमेटी की ओर से शहीद उद्यम सिंह नगर जिला के पर्यवेक्षक की भूमिका अदा की। ईमानदार व आदर्शवादी राजनेता की खोज चौधरी बीरेंद्र सिंह के संपर्क में ले  आई। हरियाणा युवा बेरोजगार संगठन के तत्वावधान में बेरोजगारी समस्या की और रैलियों, प्रदर्शनों व धरनों के  माध्यम से सरकारों का ध्यान आकर्षित किया। संगठन के बैनर तले 18 सितंबर 2004 को रोहतक में लाखों युवाओं का जमावड़ा करके सरकार को ललकारा। जिससे तत्कालीन सरकार को प्रदेश मंे पहली बार बेरोजगारी भत्ता लागू करना पड़ा। कांग्रेस में रहते हुए  इसके छात्र व युवा संगठनों में जमीनी स्तर पर सक्रिय भूमिका अदा की। कई प्रदेशों में चुनावी पर्यवेक्षक व समन्वयक के रूप में काम किया। अपने वकालत के व्यवसाय में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को निशुल्क परामर्श दिया।
भाजपा में शामिल होने के मौके पर एडवोकेट काजल ने हरियाणा की कांग्रेस ंसरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के शासनकाल में हरियाणा में हर वर्ग में निराशा पैदा हुई है। सबसे ज्यादा हताश प्रदेश का युवा है। जो सरकार की नीतियों से नाखुश है। यही वजह है कि प्रदेश का युवा अब बदलाव चाहता है और बदलाव की लहर अब पूरे हरियाणा में चल पड़ी है। उन्होंने कहा कि हरियाणा विधानसभा चुनाव के बाद प्रदेश में भाजपा की सरकार बनेगी। अमित काजल ने कहा कि प्रदेश की जनता भी अब परिवर्तन चाहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here