Close X
Thursday, October 1st, 2020

अब जयादा बच्चे पैदा करने से सरकार रोकेगी

world+pop1आई एन वी सी,
पंजाब,
पंजाब सरकार ने राज्य में जनसंख्या वृद्धि पर रोक लगाने के लिए लोगों को प्रेरित करने हेतू अनेकों पहलकदमियां की है ताकि राज्य के अवाम का जीवन स्तर और उंचा किया जा सके और प्रत्येक को जीवन के लिए आवश्यक सभी बेहतर सुविधाए उपलब्ध करवाई जा सके। परिवार में बच्चों की संख्या को सीमित रखने के लिए राज्य सरकार द्वारा जहां अवाम को छोटे परिवारों संबधी जागरूक करने के लिए अभियान चलाया जा रहा है वहीं नसबंदी और नसबंदी आपरेशन करवाने वाले व्यक्तियों को वितीय सहायता भी दी जा रही है। चीरे रहित नसबंदी करवाने वाले पुरूषों को 1100 रूपये और नसबंदी करवाने के लिए कमजोर वर्गो की महिलाओं को 600 को और आम वर्ग की महिलाओं को 250 रूपये दी जा रहे है इसके साथ ही आशा वर्करों द्वारा महिलाओं को परिवार नियोजन संबधी जागरूक किया जा रहा हेै और सरकारी अस्पतालों में गर्भ नियंत्रण साजो सामान निशुल्क उपलब्ध करवाया जा रहा हेै। इसके अतिरिक्त राज्य सरकार द्वारा दो या एक बच्चा रखने वाले परिवारों को भी उत्साहित किया जा रहा है जिन माता पिता की इकलौती बेटियां है उनको तकनीकी शिक्षा संस्थाओं में एक प्रतिशत आरक्षण देने का अहम निर्णय भी किया गया है पंजाब सरकार द्वारा लड़कियों के  प्रति भ्ेादभाव खत्म करने के मध्यनजर यह निर्णय लिया गया है। इसके तहत राज्य की सभी तकनीकी शिक्षा संस्थाओं जिनमें इंजीनियरिंग कालेज ,बहुतकनीकी कालेज और ओद्यौगिक प्रशिक्षण संस्थाए(आई टी आईज)शामिल है,में माता पिता की इकलौती लड़कियों को दाखिले में एक प्रतिशत आरक्षण देने का निर्णय किया हेै जो सैशन पर भी लागू होगा। इसी प्रकार राज्य सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को छोटा परिवार रखने के लिए उत्साहित और बडा परिवार रखने के लिए निरउत्साहित किया है। दो बच्चों तक महिला कर्मचारियों को 6 महीने की प्रसुति छुटटी और पुरूषों को 15 दिनों पैटरनटी छुटटी दी जा रही है। दो से अधिक बच्चों के लिए यह छुटटी नही दी जा रही ताकि कर्मचारी को केवल दो बच्चों तक का परिवार रखने के लिए प्रेरित किया जाए। प्राप्त हुये आकड़ों अनुसार राज्य सरकार के इन यत्नों के कारण वर्ष 2001 की जनगणना के मुकाबले 2011 में जनसंख्या वृद्धि दर 19.6 प्रतिशत से घटकर 13.89 प्रतिशत रह गई चाहे राज्य की वर्ष 2001 की जनसंख्या 2.44 करोड थी और यह 2011 में बढकर 2.77 करोड हो गई है। परंतु फिर भी राष्ट्रीय औसत में पंजाब की जनसंख्या जो 2001 में 2.37 प्रतिशत थी वह घटकर 2011 में 2.29 प्रतिशत रह गई है जोकि एक उत्साहजनक रूझान इसी प्रकार 2001 में एक हजार  पुरूषों के पीछे महिलाओं की जनसंख्या जो 874 थी वह वर्ष 2011 में  895 हो गई है यह आकडें जनसंख्या पर काबू पाने के राज्य सरकार के यत्नों की गवाही देते है और भविष्य में राज्य सरकार की इन नीतियों के साकारात्मक रूझान प्राप्त होने की आशा है।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment