आई एन वी सी न्यूज़
लखनऊ,
उ.प्र. गन्ना शोध परिषद शाहजहॉपुर के कार्यों की समीक्षा बैठक अपर मुख्य सचिव, गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग, उ.प्र. की अध्यक्षता में आज भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान, तेलीबाग के सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। समीक्षा बैठक के दौरान प्रदेश के अपर मुख्य सचिव, श्री संजय आर. भूसरेड्डी ने न्यायालय में लम्बित वादों, अनुशासनिक कार्यवाहियों, सेवा निवृत्त कार्मिकों की देयताओं, ए.सी.पी., मानव सम्पदा पोर्टल, रिक्त पदों पर भर्ती, राजस्व सृजन एवं बैलेन्स शीट, किसानों हेतु जैव उत्पादों का वृहद स्तर पर उत्पादन आदि विषयों पर गहनता से समीक्षा की।

समीक्षा बैठक के दौरान अपर मुख्य सचिव ने अभिजनक बीज उत्पादन कार्यक्रम, जैव उर्वरकों एवं बायो पेस्टीसाइड का उत्पादन एवं वितरण, उ.प्र. गन्ना शोध परिषद, शाहजहांपुर की महत्तवपूर्ण उपलब्धियों एवं प्रसार कार्यों की प्रगति के सम्बन्ध में भी समीक्षा की। उन्होंने शोध परिषद के वैज्ञानिकों को नियमित रूप से क्षेत्र स्तर पर निरीक्षण करने हेतु निर्देशित किया तथा शोध परिषद के व्यय के सापेक्ष आय बढ़ाने के निर्देश भी दिये। समीक्षा बैठक में अपर मुख्य सचिव ने कहा कि गन्ना किसानों को रोग व कीट रहित उच्च गुणवत्ता का बीज गन्ना उपलब्ध कराना हमारी सर्वाच्च प्राथमिकताओं में है, उन्होने गन्ना शोध परिषद के निदेशक एवं वैज्ञानिकेां को निर्देशित किया कि नई गन्ना किस्मों के पर्याप्त बीज किसानों तक त्वरित गति से पहुचाने हेतु बसन्तकाल में अधिकतम अभिजनक बीज पौधशाला अधिस्थापित करायी जाए इसके लिए चीनी मिल फार्मों का भी उपयोग किया जाए।

श्री भूसरेड्डी ने उर्वरकों के संतुलित उपयोग एवं जैव उवर्रकों को बढ़ावा देते हुए कहा कि अधिक से अधिक किसानों की मृदा का परीक्षण सुनिश्चित किया जाय, जिससे कि किसानों को यह ज्ञात हो सके कि उसके खेत में किस तत्व की कमी है जिससे वह उसकी पूर्ति कर उत्पादन वृद्वि कर सके। शोध परिषद जैव उवर्रकों का उत्पादन कर किसानों को उपलब्ध कराये। उन्होंने शोध परिषद को अपनी आय बढ़ाने हेतु जैव उवर्रकों, जैव पेस्टीसाईड एवं ट्राइकोकार्ड का व्यवसायिक उत्पादन करने एवं वैकल्पिक साधनों से आय बढ़ाने के निर्देश देते हुए वैज्ञानिकों से कहा कि वैकल्पिक व्यवस्था के माध्यम से गन्ना शोध परिषद की आय बढ़ाने का प्रयास करें। मानव सम्पदा पोर्टल से सम्बन्धित प्रगति की समीक्षा एवं पोर्टल पर रजिस्टर्ड कार्मिकों से सम्बन्धित डाटा फीडिंग कार्य शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश भी दिये साथ ही शोध परिषद अन्तर्गत विभिन्न संस्थानों/केन्द्रों हेतु स्वीकृत, भरे एवं रिक्त पदों की समीक्षा की गई एवं वैज्ञानिकों के रिक्त पदों पर भर्ती किये जाने हेतु निर्देशित किया गया।

श्री भूसरेड्डी ने सभी वैज्ञानिकों से कहा कि हम सभी लोग किसानों के लिए कार्य करते है इसलिए हमारी पहली प्राथमिकता किसान है इसलिए हमारी सभी शोध गतिविधियॉ किसान हितपरक होनी चाहिए। समीक्षा बैठक के बाद गन्ना समितियों में फार्म मशीनरी बैंक को सुदृढ किये जाने हेतु ट्रैक्टर व अन्य उपकरणों की खरीद के सम्बन्ध में टैªक्टर निर्माता कम्पनियों द्वारा लाई गयी मशीनरी एवं ट्रैक्टर्स का डेमों भी लिया गया।

समीक्षा बैठक में विशेष सचिव एवं अपर गन्ना आयुक्त प्रशासन डा. रूपेश कुमार, उ.प्र. गन्ना शोध परिषद के निदेशक श्री वी.के. शुक्ल, अपर गन्ना आयुक्त श्री वाई.एस.मलिक, श्री आर.पी. यादव संयुक्त गन्ना आयुक्त श्री वी.बी. सिंह, श्री विश्वेश कनौजिया, सम्भागीय विख्यापन अधिकारी श्री राघवेन्द्र पाण्डेय एवं उ.प्र. गन्ना शोध परिषद के समस्त वरिष्ठ अधिकारी एवं वैज्ञानिक उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here