Thursday, January 23rd, 2020

देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार का इस्तीफा

मुंबई/नई दिल्ली,महाराष्ट्र के डेप्युटी सीएम के तौर पर शनिवार को शपथ लेने वाले अजित पवार ने तीन दिन के बाद ही पद से इस्तीफा दे दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्होंने सीएम देवेंद्र फडणवीस को अपना इस्तीफा सौंपा है। हालांकि अब तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। इसके अलावा देवेंद्र फडणवीस भी दोपहर 3:30 बजे मीडिया से बात करने वाले हैं। कहा जा रहा है कि इस दौरान खुद देवेंद्र फडणवीस पद से इस्तीफे का ऐलान कर सकते हैं। बता दें कि आज सुबह से ही अजित पवार को लेकर कयास लगने लगे थे।
अजित पवार की सुप्रिया सुले के पति सदानंद से मुलाकात की खबरें थीं और तभी से कहा जा रहा था कि वह शरद पवार के खेमे में वापस लौट सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट की ओर से बुधवार को महाराष्ट्र विधानसभा में फ्लोर टेस्ट का आदेश दिया गया है। इसके अलावा सोमवार शाम को शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने 162 विधायकों की एक होटल में परेड कराई थी। उसके बाद से ही फडणवीस के लिए बहुमत साबित करने की राह मुश्किल मानी जा रही थी।
दिल्ली में मोदी, शाह और नड्डा की मीटिंग
इस बीच देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफे की अटकलें इसलिए भी तेज हैं क्योंकि दिल्ली में संसद सत्र के इतर पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा के बीच भी एक मुलाकात हुई। माना जा रहा है कि इस मीटिंग में महाराष्ट्र के हालात को लेकर बात हुई।
एनसीपी ने राज्यपाल से की थोराट को प्रोटेम स्पीकर बनाने की मांग
इस बीच सुप्रीम कोर्ट की ओर से फ्लोर टेस्ट के आदेश के बाद से उत्साहित विपक्षी खेमे ने राज्यपाल से कांग्रेस के सीनियर विधायक बालासाहेब थोराट को प्रोटेम स्पीकर बनाने की मांग की है। एनसीपी के नेता जयंत पाटील ने कहा कि हमने वरिष्ठता के आधार पर गवर्नर से बालासाहेब थोराट को प्रोटेम स्पीकर बनाने की मांग की है।

BJP में प्लान ए और बी से हटकर भी हो रहा काम

                                                                                            
महाराष्ट्र में भाजपा-एनसीपी की नई सरकार बनने और सोमवार को विपक्ष के शक्ति प्रदर्शन ने बहुमत के आंकड़े को उलझा दिया है। एनसीपी का घर भेद कर सरकार बनाने वाली भाजपा को उम्मीद है कि सदन में भी उसे एनसीपी का साथ मिलेगा, भले ही वह पूरा न हो। अब भी उसके रणनीतिकार शिवसेना और कांग्रेस में भी सेंध के दावे कर रहे हैं। सूत्रों के अनुसार भाजपा के प्लान-ए व प्लान-बी दोनों तैयार हैं। समय व परिस्थिति के अनुसार, इनमें भी बदलाव हो सकता है। राजभवन से उच्चतम न्यायालय तक पहुंचे सरकार व बहुमत के सवाल को सुलझने में अभी भले ही कुछ समय लगे, लेकिन पर्दे के पीछे कवायद तेज है।
भाजपा विरोधी खेमे के प्रमुख रणनीतिकार शरद पवार का घर ही सबसे कमजोर निकला, जिसमें उनके भतीजे अजीत पवार सभी विधायकों की चिठ्ठी के साथ उप मुख्यमंत्री भी बन गए है। शरद पवार के लिए अजीत पवार न उगलते बन रहा है न निगलते।  
एनसीपी के रुख पर नजर
भाजपा सूत्रों के अनुसार, प्लान-ए में एनसीपी शामिल है। पार्टी के एक प्रमुख नेता का दावा है कि सदन में एनसीपी का बड़ा धड़ा सरकार के साथ होगा। अभी भी एनसीपी सरकार में शामिल है और उसी का उपमुख्यमंत्री है। एनसीपी ने न तो सरकार से समर्थन वापस लिया है और न ही अजीत पवार को निलंबित या निष्कासित किया है। पार्टी के प्लान- बी में शिवसेना व कांग्रेस शामिल है। हालांकि यह प्लान उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद बदल भी सकते हैं। हालात विपरीत होने पर विपक्षी खेमे के कुछ विधायक अपनी सदस्यता भी दांव पर लगा सकते हैं।
भाजपा की भी अपनों पर निगाह
विपक्षी खेमे में तोड़-फोड़ के बीच भारतीय जनता पार्टी अपने विधायकों पर भी नजर रखे हुए है। हालांकि सरकार बन जाने के बाद उसमें सेंध की गुंजाइश नहीं है। इन हालात में सबसे ज्यादा डर शिवसेना और कांग्रेस को है।  राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार का कद और प्रतिष्ठा के भरोसे ही इन दोनों दलों की उम्मीदें हैं। साथ ही वे अपने-अपने विधायकों को लेकर भी सशंकित हैं। बीते एक माह में कितने विधायक भाजपा के संपर्क में आए होंगे, इसका अंदाजा उनको भी नहीं है।   PLC

Comments

CAPTCHA code

Users Comment