Close X
Monday, March 1st, 2021

अगले दो दिन तक उत्तर भारत में प्रचंड शीतलहर 

कड़ाके की ठंड के बीच बारिश की फुहारों ने राजधानी दिल्ली सहित उत्तर भारत  में ठंड का प्रकोप बढ़ा दिया है। हालांकि, इस ठंड से फिलहाल राहत नहीं मिलने जा रही है। पश्चिमी विक्षोभ की वजह से पश्चिमी हिमालय क्षेत्र और इसके आसपास के मैदानी इलाकों में रविवार यानी 3 जनवरी तक असर दिखेगा। 3 से 6 जनवरी के बीच हिमालयी क्षेत्र में बर्फबारी की भी संभावना है। भारतीय मौसम विभाग की माने तो मौसम की करवट से जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तरी राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तरपश्चिमी मध्य प्रदेश में 3 और 4 जनवरी को गरज के साथ बारिश होने की संभावना है।

उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में दक्षिण-पूर्वी हवाओं की वजह से अगले 4-5 दिनों के अंदर न्यूनतम तापमान बढ़ने की संभावना है। वहीं उत्तर प्रदेश में अगल 48 घंटे काफी सितम ढा सकते हैं क्योंकि यहां शीतलहर का प्रकोप जारी रहने की आशंका है। वहीं, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में भी अगल 24 घंटे तक ठंडी हवाएं चलेंगी।

हरियाणा में कड़ाके की ठंड तथा घने कोहरे के चलते नारनौल शून्य दशमलव दो डिग्री, हिसार एक डिग्री, रोहतक दो डिग्री, अमृतसर दो डिग्री, फरीदकोट शून्य के आसपास और बठिंडा का पारा एक डिग्री रहा। नारनौल, सिरसा और रोहतक को छोड़कर शेष समूचे पश्चिमोत्तर में घना कोहरा छाया रहा जिससे हवाई उड़ानें प्रभावित रहीं। चंडीगढ़ में भीषण ठंड तथा घने कोहरे से अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से एक भी उड़ान नहीं छूटी और न आई जिससे यात्रियों को परेशानी झेलनी पड़ी। लंबी दूरी तथा कम दूरी की ट्रेनें भी घंटों देरी से चल रही हैं। इसके अलावा सुबह तक सड़क यातायात रेंगता नजर आया। दोपहर बाद हल्की धूप निकली जिसने ठंड से मामूली सी राहत दी।

दिल्ली का पारा शिमला से कम रहा और चंडीगढ़ के बराबर रहा। शिमला में छह डिग्री, अंबाला चार डिग्री, करनाल तीन डिग्री, भिवानी तीन डिग्री, लुधियाना चार डिग्री, पटियाला चार डिग्री, गुरदासपुर, हलवारा तीन डिग्री, आदमपुर तीन डिग्री, दिल्ली एक डिग्री, श्रीनगर शून्य से कम छह डिग्री, जम्मू चार डिग्री रहा।
 
राजस्थान में चुरू सबसे ठंडा, माउंट आबू शून्य पर

मौसम विभाग के अनुसार राजस्थान के चूरू शून्य से 0.2 डिग्री सेल्सियस से कम न्यूनतम तापमान के साथ प्रदेश का सबसे ठंडा स्थान रहा। वहीं राज्य के एक मात्र पर्वतीय पर्यटक स्थल माउंट आबू में चार डिग्री के सुधार के साथ न्यूनतम तापमान जमाव बिंदू यानी शून्य डिग्री दर्ज किया गया। वहीं, राज्य के अधिकतर हिस्सों में न्यूनतम तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस तक वृद्धि होने से लोगों को कड़ाके की सर्दी से राहत मिली है। अधिकतर हिस्सों में अधिकतम तापमान 17.9 डिग्री सेल्सियस से लेकर 22 डिग्री सेल्सियस तक दर्ज किया गया।

हरियाणा-पंजाब में शीतलहर, हिसार में पारा 1.2 डिग्री नीचे  

हरियाणा और पंजाब में शुक्रवार को भी शीतलहर का प्रकोप रहा और हिसार में न्यूनतम तापमान शून्य से 1.2 डिग्री सेल्सियस नीचे पहुंच गया। मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि दोनों राज्यों में सुबह में घना कोहरा छाए रहने से दृश्यता काफी घट गई। उन्होंने बताया कि विभिन्न स्थानों पर न्यूनतम तापमान सामान्य से नीचे चला गया। हरियाणा के हिसार में गुरुवार को न्यूनतम तापमान सामान्य से आठ डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया। दोनों राज्यों में हिसार सबसे ठंडा स्थान रहा। दोनों राज्यों की साझा राजधानी चंडीगढ़ में 6.1 डिग्री सेल्सियस तापमान रहा। पंजाब में भी ठंड का प्रकोप बना हुआ है। फरीदकोट में शून्य से नीचे 0.2 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया।

गुलमर्ग में पारा शून्य से नौ डिग्री नीचे लुढ़का
कश्मीर में शुक्रवार को भी हाड़ कंपाने वाली शीतलहर जारी रही और नए साल पर घाटी में कई स्थानों पर न्यूनतम तापमान जमाव बिंदु से नीचे चला गया। अधिकारियों ने बताया कि घाटी में तापमान में गिरावट के बाद कई जलाशयों सहित जल आपूर्ति के पाइपों में पानी जम गया। मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि उत्तरी कश्मीर के गुलमर्ग में तापमान शून्य से नौ डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। घाटी में गुलमर्ग सबसे ठंडा स्थान रहा। अमरनाथ यात्रा के लिए दक्षिण कश्मीर में आधार शिविर पहलगाम में पारा शून्य से 7.8 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान चला गया।

अधिकारियों ने कहा कि शुष्क मौसम ने गुलमर्ग के प्रसिद्ध स्की-रिजॉर्ट में नए साल पर बर्फ गिरने का इंतजार कर रहे सैकड़ों पर्यटकों को निराश कर दिया। उन्होंने कहा कि हालांकि, रिजॉर्ट में विभिन्न स्थानों पर घास के मैदान पर बड़े-बड़े बर्फ के टुकड़े नए साल के जश्न को और मनोरम बना रहे थे। ट्रैफिक पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि संघशासित प्रदेश लद्दाख को कश्मीर घाटी से जोड़ने  वाले 434 किलोमीटर लंबे श्रीनगर-लेह राजमार्ग को मार्ग पर फिसलन बढ़ने के कारण सर्दियों के मौसम तक के लिए बंद कर दिया गया है। वहीं, दक्षिण कश्मीर में शोपियां को जम्मू क्षेत्र के राजौरी तथा पुंछ को जोड़ने वाले 86 किलोमीटर लंबा मुगल रोड भी हिमपात तथा सड़क पर फिसलन की स्थिति के कारण बंद है। हालांकि सीमावर्ती शहर करगिल से लेह तक यातायात जारी रहेगी।

हिमाचल में राहत
हिमाचल प्रदेश में चटख धूप खिलने से कड़ाके की ठंड से राहत मिली। पहाड़ों पर मौसम सुहावना रहा लेकिन अगले चौबीस घंटों में पश्चिमी विक्षोभ के कारण बारिश तथा हिमपात की संभावना है।

प्रयागराज में ज्यादा ठंडी रही इस बार पहली जनवरी
यूपी में पिछले साल से इस बार सर्दी ज्यादा है। प्रयागराज में पहली जनवरी को न्यूनतम पारा छह डिग्री दर्ज किया गया। 2020 की एक जनवरी को यह सात डिग्री था। हालांकि अधिकतम तापमान में कोई अंतर नहीं आया है। शुक्रवार को यह 20 डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि पिछले साल एक जनवरी को भी दिन का पारा 20 ही था। मौसम विज्ञानी का मत है कि आगे भी पिछले साल से ज्यादा सर्दी पड़ेगी। मौसम विज्ञानी प्रो.एचएन मिश्र के अनुसार, सर्दी का प्रकोप कम नहीं होने वाला है। कोहरा आगे और घना होगा। सर्दी के साथ गलन भी परेशान करेगी। तापमान में उतार-चढ़ाव के साथ गिरावट होगी। रविवार को बूंदाबांदी के प्रबल आसार हैं।

लखनऊ के बाद प्रदेश में सबसे ठंडा शहर आगरा
ताजनगरी में नए साल का बर्फीला आगाज हुआ है। पहले ही दिन गलनभरी सर्दी ने लोगों को घरों में बंद रहने पर मजबूर कर दिया। बचाव के सभी साधन फेल हो गए। निचला पारा धड़ाम होकर सिर्फ 2.0 डिग्री सेल्सियस रह गया है। आगरा पहाड़ों के कई शहरों से भी अधिक ठंडा रहा है।

उत्तराखंड में आज बारिश-बर्फबारी की संभावना
अगले कुछ दिन उत्तराखंड के अनेक हिस्सों में मौसम फिर बदलने जा रहा है। राज्य में कहीं कहीं, विशेषकर गढ़वाल क्षेत्र के जनपदों में बहुत हल्की से हल्की बारिश-हिमपात होने की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार पांच जनवरी को ज्यादा हिमपात व बारिश का अंदेशा है। राज्य के कई हिस्सों में ओलावृष्टि व आकाशीय बिजली गिरने को लेकर यलो अलर्ट भी जारी किया गया है। मौसम केन्द्र देहरादून के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार साल के पहले ही हफ्ते में ऊंचे स्थानों पर हिमपात हो सकता है। इसकी शुरूआत शनिवार से हो जाएगी।

हल्द्वानी का पहला दिन 11 साल पहले जितना ही ठंडा
नैनीताल में बर्फबारी के बीच नए साल का जश्न मनाने का प्लान बनाए बैठे लोगों को मौसम ने निराश किया है। साल का पहला दिन अधिकतम तापमान 15 डिग्री और न्यूनतम तापमान 9.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सुबह और शाम के वक्त पड़ी ठंड से लोगों की कंपकंपी छूट गई। लेकिन, सूरज की किरणों ने दिनभर राहत का अहसास कराया।
मौसम विभाग में दर्ज 11 साल में जनवरी की पहली तारीख के तापमान पर नजर डालने पर चलता है कि इस साल भी नए के आगमन पर सन 2011 के पहले दिन जितनी ही ठंड थी।

बिहार में न्यूनतम तापमान 3 डिग्री तक गिरा
बिहार में न्यूनतम तापमान के गिरावट से ठंड में वृद्धि हुई है। पिछले 24 घंटों में कई शहरों का पारा दो से तीन डिग्री तक नीचे आया है। अगले 24 से 48 घंटों में पारे में आंशिक गिरावट के आसार हैं। रविवार से सूबे में आंशिक बादल छाएंगे और इस वजह से दिन का तापमान नीचे आएगा, जबकि न्यूनतम तापमान में दो से तीन डिग्री की वृद्धि होगी। यानी अधिकतम तापमान नीचे आएगा और रात का पारा नीचे गिरेगा। पिछले 24 घंटों में राज्य में मौसम शुष्क रहा और पटना सहित सभी शहरों में हल्का कोहरा देखा गया।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment