अखिल भारतीय कवि सम्मेलन से हुई बराड़ा महोत्सव-2015 की शुरुआत

0
42

tanveerjafri,tanvirjafri,writertanvirjafri,invcआई एन वी सी न्यूज़
बराड़ा,

सामाजिक कुरीतियों के प्रतीक विश्व के सबसे ऊंचे रावण के पुतले के निर्माण हेतु पांच बार लिम्का रिकॉर्ड हासिल करने वाले श्री रामलीला क्लब बराड़ा के तत्वावधान में बराड़ा महोत्सव की शुरुआत आज अखिल भारतीय कवि सम्मेलन के आयोजन से हुई। देश के जाने-माने तथा अंतर्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय प्रसिद्धि प्राप्त कवियों व हास्य कवियों ने कवि सम्मेलन में हिस्सा लिया।  हरियाणा साहित्य अकादमी के सहयोग से बराड़ा महोत्सव 2015 के पहले दिन हुए इस अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में देश के जिन प्रसिद्ध कवियों ने अपना काव्य पाठ किया तथा हास्य व्यंग्य के द्वारा हज़ारों श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया उनमें डा० श्याम सखा श्याम,पूर्व निदेशक हरियाणा साहित्य अकादमी,डा० चंद्र त्रिखा,पूर्व निदेशक हरियाणा साहित्य अकादमी,माधव कौशिक,महेंद्र अजनबी,वेद प्रकाश वेद,अरुण जेमिनी,शंभू शिखर,महेंद्र शर्मा,डा० अशोक बतरा,तथा दीपक गुप्ता आदि के नाम उल्लेखनीय रहे।
विश्व के सबसे ऊंचे रावण के पुतले की पृष्ठभूमि में आयोजित हुए इस राष्ट्रीय स्तर के कवि सम्मेलन की अध्यक्षता प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान गुरु नानक इस्टीच्यूट के निदेशक श्री हरजिंद्र सिंह ने की। जबकि मुख्य अतिथि के तौर पर स्थानीय विधायक एवं पूर्व मंत्री संतोष चौहान सारवान ने शिरकत की। कवि सम्मेलन की शुरुआत तेजिंद्र चौहान ने हास्य व्यंग्य के सशक्त हस्ताक्षर रहे स्वर्गीय सागऱ $खय्यामी की रचना से की। क्लब संयोजक एवं प्रख्यात लेखक तनवीर जा$फरी ने विशालकाय रावण की शान में लिखा गया एक प्रशस्ति गीत ($कसीदा)पेश किया। इस अवसर पर उपस्थित कवियों ने श्रोताओं के दिलों पर जहां अपनी गंभीर रचनाओं से गहरी छाप छोड़ी वहीं हास्य व्यंग्य के कवियों विशेषकर हास्य काव्य जगत के सिरमौर अरूण जेमिनी ने श्रोताओं को जमकर हंसने के लिए मजबूर कर दिया। हरियाणा साहित्या अकदामी व चंडीगढ़ साहित्य अकादमी के तीन पूर्व निदेशकों डा० चंद्र त्रिखा,डा० श्याम सखा श्याम व माधव कौशिक की कार्यक्रम में एक साथ उपस्थिति ने आयोजन को गौरवान्वित किया। उपस्थित कवियों ने क्लब के संस्थापक तेजिंद्र चौहान द्वारा निर्मित विशालकाय रावण के पुतले की भरपूर सराहना की। कई कवियों ने इस आयोजन में शिरकत कर यह स्वीकार किया कि बावजूद इसके कि उन्होंने देश-विदेश में अनेकानेक कवि सम्मेलनों में भाग लिया परंतु इतने विशालकाय रावण के पुतले के समक्ष अपना काव्य प्रस्तुत करने का उनका अनूठा अनुभव अपने-आप में एक यादगार तथा अभूतपूर्व पल के रूप में उन्हें हमेशा याद रहेगा।

श्रोताओं ने बराड़ा महोत्सव में आयोजित हुए अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का जमकर आनंद लिया तथा हंसी के $खूब ठहाके लगाए। बराड़ा महोत्सव-2015 के दूसरे दिन अर्थात् 19 अक्तूबर की शाम को इसी स्थान पर उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, एनज़ेडसीसी व गुरूनानक इंस्टीच्यूट जीएनआई के सहयोग से प्रसिद्ध पंजाबी गायक सरदूल सिकंदर अपना संगीतमय कार्यक्रम प्रस्तुत करेंगे। सरदूल सिकंदर द्वारा लाईव प्रस्तुति की $खबर से क्षेत्र के युवाओं में का$फी उत्साह देखा जा रहा है। बराड़ा महोत्सव के तीसरे दिन के रूप में 20 अक्तूबर की शाम उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, एनज़ेडसीसी के सहयोग से ही एक और मशहूर पंजाबी गायक मानक अली के सुरों से सजाई जाएगी। जबकि 21 अक्तूबर की शाम को मशहूर पंजाबी गायक कंवर ग्रेवाल अपनी लाईव प्रस्तुति देकर एक बार पुन: बराड़ा महोत्सव की शोभा बनेंगे।
महोत्सव के समापन दिवस अर्थात् 22 अक्तूबर 2015 विजयदशमी के दिन श्री रामलीला क्लब बराड़ा एवं एमएम विश्वविद्यालय के सहयोग से क्लब के संस्थापक अध्यक्ष राणा तेजिंद्र सिंह चौहान के निर्देशन में तैयार किया गया 210 $फीट का विश्व का सबसे ऊंचा रावण का पुतला लाखों दर्शकों के समक्ष रिमोट का बटन दबाकर अग्रि की भेंट कर दिया जाएगा।
राणा तेजिंद्र सिंह चौहान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here